Tuesday , August 20 2019 [ 7:26 AM ]
Breaking News
Home / अन्य / गरीबों को 10 फीसदी आरक्षण देने वाला तीसरा राज्य बना उत्तर प्रदेश
गरीबों को 10 फीसदी आरक्षण देने वाला तीसरा राज्य बना उत्तर प्रदेश              645x330

गरीबों को 10 फीसदी आरक्षण देने वाला तीसरा राज्य बना उत्तर प्रदेश

गरीबों को 10 फीसदी आरक्षण देने वाला तीसरा राज्य बना उत्तर प्रदेश
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

यूपी कैबिनेट ने बड़ा फैसला लेते हुए गरीबों को सरकारी नौकरियों व शिक्षण संस्थानों में प्रवेश के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने का फैसला किया है।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई कैबिनेट की बैठक में इससे संबंधित प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई। प्रदेश में इस व्यवस्था का लाभ बीती 14 जनवरी से ही मिलेगा। बैठक के बाद मीडिया को सम्बोधित करते हुए राज्य सरकार के मंत्री व प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने कहा कि राज्य में केंद्र के प्रस्ताव को हूबहू लागू किया जाएगा।

शर्मा ने बताया कि केंद्रीय सामाजिक एवं अधिकारिता मंत्रालय की 12 जनवरी, 2019 की अधिसूचना के माध्यम से 103 वें संविधान संशोधन के द्वारा सरकारी नौकरियों की सभी श्रेणियों तथा शैक्षिक संस्थाओं में गरीबों लिए अधिकतम 10 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की गई है।

केंद्र सरकार ने इसे 14 जनवरी से लागू करने की अधिसूचना जारी की है। प्रदेश सरकार ने भी सामान्य वर्गों के लिए अधिकतम 10 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था 14 जनवरी से ही लागू करने पर सैद्धांतिक सहमति दे दी है।

प्रदेश कैबिनेट ने चंदौली जिले की मुगलसराय तहसील का नाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर करने का फैसला किया है। बता दें, केंद्र सरकार, प्रदेश सरकार के प्रस्ताव पर मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम पहले ही कर चुकी है।

प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि प्रसिद्ध विचारक, अर्थशास्त्री, इतिहासकार व पत्रकार रहे पं. दीनदयाल का निष्प्राण शरीर 11 फरवरी 1968 को मुगलसराय रेलवे स्टेशन पर पाया गया था। राजस्व परिषद के चेयरमैन प्रवीर कुमार की अध्यक्षता वाली उच्चस्तरीय समिति ने प्रदेश में दीनदयाल नगर नाम से कोई तहसील न होने का हवाला देते हुए मुगलसराय तहसील का दीनदयाल नगर किए जाने की संस्तुति की गई थी।

उपशा को हस्तांतरित होगा मुजफ्फरनगर का रामपुर बाईपास
मुजफ्फरनगर में स्थित 1.20 किलोमीटर लंबे रामपुर बाईपास को फोरलेन करने के लिए इसे लोक निर्माण विभाग से उत्तर प्रदेश राज्य राजमार्ग प्राधिकरण (उपशा) को हस्तांतरित किए जाने के प्रस्ताव को कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है।

मुजफ्फरनगर-सहारनपुर वाया देवबंद मार्ग (एसएच-59) के प्रारंभिक हिस्से पर ही यह बाईपास स्थित है। यह बाईपास मुजफ्फरनगर-सहारनपुर वाया देवबंद मार्ग को राष्ट्रीय मार्ग-58 से जोड़ता है। हस्तांतरण की प्रक्रिया पूरी होने के बाद रामपुर बाईपास का विकास फोरलेन स्तर तक निजी विकासकर्ता मेसर्स देवबंद हाईवेज प्राइवेट लिमिटेड, लखनऊ द्वारा किया जा सकेगा।

About Arun Kumar Singh

Check Also

जम्मू-कश्मीर के लोगों के पक्ष में होगा अनुच्छेद 35ए पर होने वाला कोई भी फैसला: बीजेपी Capture 1 310x165

जम्मू-कश्मीर के लोगों के पक्ष में होगा अनुच्छेद 35ए पर होने वाला कोई भी फैसला: बीजेपी

श्रीनगरजम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए को खत्म करने की चर्चाओं के बीच भारतीय जनता …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.