Tuesday , October 23 2018 [ 4:29 AM ]
Breaking News
Home / अन्य / आरएलएसपी चीफ का तेजस्वी को दो-टूक, कहा- 2019 में दूंगा मोदी का साथ
[object object] आरएलएसपी चीफ का तेजस्वी को दो-टूक, कहा- 2019 में दूंगा मोदी का साथ

आरएलएसपी चीफ का तेजस्वी को दो-टूक, कहा- 2019 में दूंगा मोदी का साथ

   पटना
    उपेंद्र कुशवाहा ने तेजस्वी यादव की तरफ से महागठबंधन में शामिल होने के न्योते को सीधे तौर पर ठुकरा दिया है। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के नेता और केंद्रीय राज्य मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने कहा है कि आरजेडी ने अपना जनाधार खो दिया है इसलिए ऐसे बयान आ रहे हैं। कुशवाहा ने कहा कि देशहित में मोदी का पीएम बने रहने जरूरी है और वह उनका साथ देंगे।

    [object object] आरएलएसपी चीफ का तेजस्वी को दो-टूक, कहा- 2019 में दूंगा मोदी का साथ                          300x223उपेंद्र कुशवाहा के इस बयान ने बिहार के उस सियासी पारे को गिरा दिया जो रविवार को तेजस्वी के एक ट्वीट के बाद चढ़ गया था। दरअसल रविवार को आरजेडी नेता और पूर्व डेप्युटी सीएम तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर उपेंद्र कुशवाहा को महागठबंधन में शामिल होने का न्योता दिया था। ऐसी खबरें आ रहीं थीं कि एनडीए में सीट शेयरिंग को लेकर नीतीश को ज्यादा तवज्जो मिलने से उपेंद्र कुशवाहा नाखुश हैं। तेजस्वी ने इसी मौके को भुनाने के लिए एनडीए में फूट डालने के लिए एक राजनीतिक दांव चला था। 

   तेजस्वी ने अपने ट्वीट में लिखा कि बीजेपी उपेंद्र कुशवाहा का सम्मान नहीं कर रही है। उन्होंने लिखा कि ‘उपेंद्र कुशवाहा को 4 सालों से

उपेंद्र कुशवाहा ने ठुकराया तेजस्वी का न्योता

 

एनडीए में उपेक्षित किया जा रहा है। हम उन्हें महागठबंधन में शामिल होने का न्योता देते हैं।’ अभी तेजस्वी की इस राजनीतिक चाल पर चर्चे शुरू ही हुए थे कि उपेंद्र कुशवाहा ने मामला ही पलट दिया। 

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि, ‘आरजेडी ने अपना जनाधार खो दिया है। जनाधार तलाशने के लिए वे ऐसे बयान दे रहे हैं लेकिन मेरे लिए इनका कोई मतलब नहीं। देशहित के लिए यह जरूरी है कि मोदी पीएम बने रहें। अगले पीएम भी वही बनेंगे।’ आरएलएसपी चीफ ने साफ तौर पर इस का संकेत देने की कोशिश की है कि बिहार में एनडीए मजबूत है और किसी तरह की फूट नहीं है। 

बिहार में एनडीए की एकजुटता को लेकर इसलिए हो रहे हैं चर्चे 
     उपेंद्र कुशवाहा ने अपनी तरफ से मामला साफ तो कर दिया है लेकिन पिछले दिनों के कुछ राजनीतिक घटनाक्रम ऐसे रहे हैं जिनकी वजह से बिहार में एनडीए की एकजुटता को लेकर चर्चे हो रहे हैं और सवाल खड़े किए जा रहे हैं। दरअसल पिछले हफ्ते शुक्रवार को बिहार में एनडीए के घटक दलों की बैठक हुई थी। माना जा रहा था कि इस बैठक में 2019 के चुनावों को लेकर सीट शेयरिंग के फॉर्म्युले पर भी चर्चा होगी, लेकिन कुशवाहा इस बैठक में नहीं पहुंचे। 

     हालांकि कुशवाहा ने बाद में निजी कारणों का हवाला दिया, लेकिन तबतक चर्चाएं जोर पकड़ चुकी थीं। दरअसल एनडीए के दो अहम घटक दलों जेडीयू और आरएलएसपी के प्रवक्ताओं ने भी ऐसे कुछ बयान दिए जिसकी वजह से गठबंधन में एकजुटता को लेकर सवाल खड़े हुए। पहले जेडीयू के प्रवक्ताओं ने कहा कि बिहार में नीतीश कुमार ही एनडीए का चेहरा हैं इसलिए उनकी पार्टी को सबसे अधिक सीटें (40 में से 25) मिलनी चाहिए। इस पर आरएलएसपी की तरफ से तुरंत पलटवार हुआ। 

    आरएलएसपी नेता नागमणि ने कहा कि उनकी पार्टी नीतीश कुमार को नेता नहीं मानती है। इन्हीं वजहों से बिहार में सियासी चर्चाएं शुरू हुईं थी और तेजस्वी को कुशवाहा के लिए न्योता भेजने का मौका मिल गया। हालांकि कुशवाहा ने इसे ठुकरा कर एकता का संदेश तो दिया है लेकिन बिहार में एनडीए का सीट शेयरिंग का फॉर्म्युला अभी भी उलझा हुआ है। 

upendra-kushwaha-shoots-down-talk-of-joining-grand-alliance-says-will-back-modi-in-2019

About Arun Kumar Singh

Check Also

[object object] शिवपाल ने रामगोपाल के  पैर छूकर किया चुनावी जंग का ऐलान        310x165

शिवपाल ने रामगोपाल के पैर छूकर किया चुनावी जंग का ऐलान

शिवपाल यादव अखिलेश की इसी दुखती रग को दबाने के लिए आज शुक्रवार को मुजफ्फरनगर …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.