Sunday , January 20 2019 [ 4:17 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / अबैध खनन मामला:रिटायर्ड क्लर्क के घर से दो करोड़ बरामद
अबैध खनन मामला:रिटायर्ड क्लर्क के घर से दो करोड़ बरामद bb 1 581x330

अबैध खनन मामला:रिटायर्ड क्लर्क के घर से दो करोड़ बरामद

सीबीआई की छापेमारी में 2 किलो सोना जब्त किया गया। IAS बी चंद्रकला का एक लॉकर और 2 बैंक खाते सील किये है।
एक रियटर्ड क्लर्क राम अवतार से 2 करोड़ बरामद। 3 अन्य बैंक खाते भी सीज किये गए। बी चंद्रकला पर सीबीआई ने केस दर्ज किया है। अवैध खनन के मामले में सीबीआई ने सात PE दर्ज की थी। 

अवैध खनन मामले में IAS बी चंद्रकला के घर CBI का छापा, एक साल में बढ़ी थी 90% संपत्ति

अबैध खनन मामला:रिटायर्ड क्लर्क के घर से दो करोड़ बरामद b

आईएएस बी.चंद्रकला

लखनऊ में अवैध रेत खनन मामले में सीबीआई ने सुर्खियों में रहने वाली आईएएस अधिकारी बी. चंद्रकला के घर समेत उत्तर प्रदेश में 12 स्थानों पर छापेमारी की. बी. चंद्रकला का घर योजना भवन के पास सफायर एंड विला में है.

रेत के अवैध खनन से जुड़े मामले में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने शनिवार को उत्तर प्रदेश और दिल्ली में 12 जगहों पर छापे मारे. अधिकारियों ने बताया कि आईएएस अधिकारी बी. चन्द्रकला सहित वरिष्ठ अधिकारियों के आवासों पर इस संबंध में छापे मारे गए. चन्द्रकला भ्रष्टाचार के खिलाफ अपने अभियानों के लिए सोशल मीडिया पर बेहद लोकप्रिय हैं. उन्होंने बताया कि छापे उत्तर प्रदेश के जालौन, हमीरपुर, लखनऊ समेत कई जिलों के साथ ही दिल्ली में भी मारे गए.दरअसल, सीबीआई इलाहाबाद उच्च न्यायालय के निर्देश पर मामले की जांच कर रही है. बी. चंद्रकला का घर योजना भवन के पास सफायर एंड विला में है. फिलहाल, बी चंद्रकला डेप्यूटेशन पर हैं. यूपी में उनकी छवि एक कड़क और ईमानदार अफसर की रही है.

इससे पहले बुलंदशहर, हमीरपुर समेत कई जिलों में बतौर डीएम चंद्रकला ने अपने कामों और कड़क अंदाज की वजह से वाहवाही और सुर्खियां बटोर चुकी हैं. सीबीआई ने चंद्रकला के हमीरपुर आवास पर छापेमारी की है.बी. चन्द्रकला 2008 बैच की IAS अधिकारी हैं. सोशल मीडिया पर चंद्रकला काफी मशहूर हैं. पर लोकप्रियता के मामले में चंद्रकला उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से कहीं आगे हैं. फेसबुक पर चंद्रकला के 8,636,348 से ज्यादा फॉलोअर्स हैं. वहीं, अखिलेश के फॉलोअर्स की संख्या 6,816,363 है

.पहले भी लग चुके हैं चंद्रकला पर ‘दाग’साल 2017 में IAS बी. चंद्रकला अपनी संपत्ति का ब्योरा देने में डिफॉल्टर साबित हुई थीं. दरअसल, सिविल सेवा अधिकारियों को 2014 के लिए 15 जनवरी 2015 तक अपनी संपत्ति का रिकॉर्ड पेश करना था. लेकिन एक साल बीतने के बाद भी इन अधिकारियों ने अपनी संपत्ति का ब्योरा नहीं दिया था. चंदकला का नाम भी इसमें शामिल था.

अवैध खनन को लेकर सीबीआईकी बड़ी कार्रवाई, चर्चित आईएएस बी.चंद्रकला के घर छापेमारी

यूपी के हमीरपुर में हुए अवैध खनन के मामले में सीबीआई ने शनिवार को तत्कालीन डीएम बी।चन्द्रकला के लखनऊ आवास पर छापा मारा। टीम ने घर कई महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किए हैं। सफायर अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 101 में सीबीआई की टीम मौजूद है। फिलहाल छापेमारी की कार्रवाई जारी है।
वहीं सीबीआई की एक टीम हमीरपुर में छापेमारी कर रही है। जहां टीम ने 2 बड़े मौरंग व्यवसायियों के घरों में छापेमारी की है। बताया जाता है कि रमेश मिश्रा और सत्यदेव दीक्षित़ शहर के बड़े मौरंग व्यापारी है। इस दौरान टीम ने बेड और सोफे को खोलकर जांच की जा रही है। सीबीआई की 15 सदस्यीय टीम कार्रवाई में जुटी हुई है।
बता दें कि अखिलेश यादव की सरकार में बी।चन्द्रकला आईएएस बी।चन्द्रकला की पोस्टिंग पहली बार हमीरपुर जिले में जिलाधिकारी के पद पर की गई थी। आरोप है कि इस आईएएस ने जुलाई 2012 के बाद हमीरपुर जिले में 50 मौरंग के खनन के पट्टे किए थे। जबकि ई-टेंडर के जरिए मौरंग के पट्टों पर स्वीकृति देने का प्रावधान था लेकिन बी।चन्द्रकला ने सारे प्रावधानों की अनदेखी की थी।
बताते है कि वर्ष 2015 में अवैध रूप से जारी मौरंग खनन को लेकर हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी।

हाईकोर्ट ने 16 अक्टूबर 2015 को हमीरपुर में जारी किए गए सभी 60 मौरंग खनन के पट्टे अवैध घोषित करते हुए रद्द कर दिए थे। याचिका कर्ता विजय द्विवेदी के मुताबिक मौरंग खदानों पर पूरी तरह से रोक लगाने के बाद भी जिले में अवैध खनन खुलेआम किया गया। 28 जुलाई 2016 को तमाम शिकायतें व याचिका पर सुनवाई करते हुये हाईकोर्ट ने अवैध खनन की जांच सीबीआई को सौंप दी थी।


आज कुल 14 ठिकानों पर छापेमारी की गई– लखनऊ , नोएडा , दिल्ली , कानपुर ,जालौन  में छापेमारी की गयी। 11 सरकारी  लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था । कुछ प्राइवेट लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। साल 2012  से 2016 के बीच का मामला है।
 NGT के प्रतिबंध के बावजूद खनन किया गया था और काफी पैसों की उगाही की गई थी ।
इस मामलों में सात जिलों में सीबीआई की तफ्तीश चल रही थी। 31.5.2012 को एक टेंडर हुआ था जो e- टेंडर के मार्फत नहीं किया गया था । 
लिहाजा इस मामले को कोर्ट ने काफी गंभीरता से लेते हुए सीबीआई को जांच के निर्देश दिए थे ।
आरोपियों के नाम —-
1 बी .चन्द्रकला , IAS  
2 आदिल खान – एक माइनिंग का लीज होल्डर
 3 मोइनुद्दीन – जियोलॉजिस्ट  (तत्कालीन खनन अधिकारी हमीरपुर ) इनके लखनऊ वाले आवास से 12 लाख रुपये और 1.8 किलो गोल्ड मिला है । 
4 .रमेश कुमार मिश्रा – MLC।   
5 . दिनेश कुमार मिश्रा -ये रमेश के भाई हैं  , इन दोनों के यहां भी छापेमारी हुई है । 
6 . रामाश्रय प्रजापति -माइनिंग क्लर्क 
7 . अम्बिका तिवारी  -ये हमीरपुर के रहने वाली है और दिनेश /रमेश मिश्रा के जानकर भी हैं 
 8 . संजय दीक्षित – बीएसपी से चुनाव लड़ चुके हैं,इनके  पिता सत्यदेव दीक्षित के घर भी छापेमारी हुई है । 
 9 .रामावतार  सिंह – ये सीनियर क्लर्क के तौर पर सेवानिवृत्त हुए थे , जो जालौन के रहने वाले हैं।  इसके घर में दो करोड़ नकदी और दो किलो सोना मिला है ।
 10 . करण सिंह – इसके यहां भी छापेमारी हुई है  ,इसका संबंध रामावतार सिंह से हैसीबीआइ ने जो सात “प्राथमिक मामला ( PE )” दर्ज किया था। जिसपे ये कार्रवाई हुई है।नोएडा,लखनऊ,दिल्ली, शामली , कौशाम्बी , फतेहपुर , सहारनपुर , सिद्धार्थनगर , हमीरपुर ,देवरिया में छापे पड़े हैं।

About Arun Kumar Singh

Check Also

पीएम मोदी ने यूं की के-9 वज्र होवित्जर तोप की सवारी              1 310x165

पीएम मोदी ने यूं की के-9 वज्र होवित्जर तोप की सवारी

हजीरा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हजीरा  (सूरत) में शनिवार को एल एंड टी के आर्मर्ड …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.