Saturday , February 29 2020 [ 6:16 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म करने के लिए भगवत् गीता जरूरी: मनोहर लाल खट्टर

भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म करने के लिए भगवत् गीता जरूरी: मनोहर लाल खट्टर

     कुरुक्षेत्र –हम भ्रष्टाचार पर कानून और न्याय के सहारे लगाम कस सकते हैं, लेकिन उसे हर स्तर पर जड़ से उखाड़ने के लिए लोगों के जीवन स्तर को सुधारना होगा। यह तभी संभव है जब लोग पवित्र गीता के उपदेशों को अपनाएं।’ सीएम ने कहा भगवत् गीता ही जिंदगी का सार है
         भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म करने के लिए भगवत् गीता जरूरी: मनोहर लाल खट्टर Masterहरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि ‘भगवत् गीता’ के उपदेशों के सहारे भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए लोगों के जीवन स्तर को बढ़ाने की जरूरत है और ऐसा करना सिर्फ ‘गीता’ के उपदेशों से ही संभव है। कुरुक्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सवमें आयोजित एक सेमिनार को संबोधित करते हुए खट्टर ने राजनीति में भी ‘गीता’ की जरूरत पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि आज के दौर में ‘गीता’ राजनेताओं को सही दिशा दिखा सकती है। 

   अपने संबोधन में खट्टर ने कहा, ‘हम भ्रष्टाचार पर कानून और न्याय के सहारे लगाम कस सकते हैं, लेकिन उसे हर स्तर पर जड़ से उखाड़ने के लिए लोगों के जीवन स्तर को सुधारना होगा। यह तभी संभव है जब लोग पवित्र गीता के उपदेशों को अपनाएं।’ सीएम ने कहा भगवत् गीता ही जिंदगी का सार है और कुरुक्षेत्र की पवित्र धरती पर ही भगवान श्री कृष्ण ने गीता का संदेश दिया था। उन्होंने कहा कि भगवान कृष्ण के उपदेश सिर्फ देश के लिए ही नहीं, पूरी दुनिया के लिए प्रासंगिक हैं/

    मुख्यमंत्री ने कहा कि विचार गोष्ठी का शीर्षक (डिजिटल युग में स्व-अन्वेषण: श्रीमद् भगवत् गीता दर्शन के परिप्रेक्ष्य में) बिल्कुल सही रखा गया है, क्योंकि डिजिटल व्यवस्था आज पूरी दुनिया के लिए बड़ी जरूरत बन गई है। उन्होंने कहा, ‘डिजिटाइजेशन से हमें कोई भी जानकारी सिर्फ एक क्लिक पर मिल जाती है। प्रदेश सरकार ने गुड गवर्नेंस सुनिश्चित करने के लिए और प्रशासन में भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए कई ई-इनिशटिव्स लिए हैं। प्रदेश के लगभग 1,150 गांवों में कम से कम 183 ई-सर्विसेज उपलब्ध कराई गईं हैं।’ 

     कार्यक्रम को संबोधित करते हुए हरियाणा के राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा कि ‘जियो और जीने दो’ की अवधारणा को लागू करने और दुनिया की शांति-खुशहाली के लिए भगवत् गीता के संदेश को हर तरफ फैलाए जाने की जरूरत है। 

     कार्यक्रम में राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद थे। अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव के तहत आयोजित हुए इस सेमिनार में 11 देशों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। 

  teachings-of-bhagavad-gita-can-help-eradicate-graft-says-khattar

To eliminate corruption, the Bhagavad Gita is essential: Manohar Lal Khattar

About Arun Kumar Singh

Check Also

संघर्ष करने वाले लोग हमेशा याद रखें गांधी जी का अहिंसा मंत्र-राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद Capture 3 310x165

संघर्ष करने वाले लोग हमेशा याद रखें गांधी जी का अहिंसा मंत्र-राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

राष्ट्रपति ने कहा, ‘राष्ट्र-निर्माण के लिए, महात्मा गांधी के विचार आज भी पूरी तरह से …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.