Wednesday , October 23 2019 [ 4:14 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / सभी 230 सीटों के नतीजे आए, 24 घंटे बाद पूरी हुई काउंटिंग,खंडित जनादेश के साथ सरकार बनाने का दावा पेश
सभी 230 सीटों के नतीजे आए, 24 घंटे बाद पूरी हुई काउंटिंग,खंडित  जनादेश के साथ सरकार बनाने का दावा पेश rahul 621x330

सभी 230 सीटों के नतीजे आए, 24 घंटे बाद पूरी हुई काउंटिंग,खंडित जनादेश के साथ सरकार बनाने का दावा पेश

सियासत में किस्मत पलटने के लिए एक दिन काफी होता है। सोमवार तक राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ पर हुकूमत कर रही भारतीय जनता पार्टी को मंगलवार को जबरदस्त झटका लगा। राहुल गांधी की अगुवाई वाली कांग्रेस ने न केवल भगवा दल के तीन महत्वपूर्ण गढ़ ढहा दिए, बल्कि थोड़े उतार-चढ़ाव के साथ 2013 से जारी उसके अश्वमेध पर भी रोक लगा दी। उधर, तेलंगाना और मिजोरम में दोनों राष्ट्रीय पार्टियों को मायूसी हाथ लगी है।

राजस्थान में सरकार बदलने का ट्रेंड जारी

भाजपा तमाम कोशिशों के बावजूद राजस्थान में हर पांच साल में सरकार बदलने की परंपरा को नहीं तोड़ पाई। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट की अगुवाई में कांग्रेस ने वसुंधरा राजे सरकार को मात दे दी। देर शाम, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा भी सौंप दिया।

मध्य प्रदेश में कांटे का मुकाबला

सबसे रोचक मुकाबला मध्य प्रदेश में रहा। यहां भाजपा-कांग्रेस के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली। राज्य में किसी भी पार्टी को बहुमत मिलता नहीं दिख रहा। ऐसे में बसपा, सपा और निर्दलीय विधायक किंगमेकर हो सकते हैं।

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को दो तिहाई बहुमत

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने दो-तिहाई बहुमत से जीत हासिल कर 15 साल से सत्तारूढ़ भाजपा को बाहर कर दिया है। यहां पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का भी करिश्मा काम नहीं कर पाया। देर शाम मुख्यमंत्री रमन सिंह ने राज्यपाल को इस्तीफा भी सौंप दिया है।

तेलंगाना में पहले चुनाव की रणनीति काम आई

तेलंगाना में समय से पहले चुनाव करवाने की चंद्रशेखर राव की रणनीति काम आई और उनकी पार्टी टीआरएस दो-तिहाई बहुमत से ज्यादा सीटें जीती। वहीं, मिजोरम में दस साल बाद कांग्रेस ने मिजो नेशनल फ्रंट के हाथों सत्ता गंवा दी है। कांग्रेस को यहां केवल पांच सीटें मिलीं है।

दिल्ली/भोपाल : मध्‍य प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित हो गए हैं। सभी 230 सीटों के रिजल्‍ट आ गए हैं, जिसमें कांग्रेस 114 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है, जबकि पिछले 15 साल से सत्‍तासीन बीजेपी ने 109 सीटों पर जीत दर्ज की है। खंडित जनादेश के बीच कांग्रेस ने सरकार बनाने के लिए अपना दावा पेश कर दिया है। राज्‍य में अगर कांग्रेस सरकार बनाने में कामयाब होती है तो प्रदेश की सत्‍ता में 15 साल बाद उसका वनवास खत्‍म होगा।

   तेलंगाना में टीआरएस ने सत्‍ता पर पकड़ बरकार रखी है तो पूर्वोत्‍तर में कांग्रेस अपना एकमात्र गढ़ मिजोरम भी नहीं बचा पाई। यहां एमएनएफ ने शानदार जीत दर्ज करते हुए 26 सीटें हासिल की हैं, जबकि कांग्रेस सिर्फ 5 सीटों पर सिमट गई है।

मध्‍य प्रदेश का यह चुनाव इसलिए भी खास है, क्‍योंकि सभी 230 सीटों के नतीजे आने में 24 घंट से अधिक वक्‍त लग गया। हालांकि 229 सीटों के नतीजों का ऐलान देर रात ही हो गया था, लेकिन एक सीट पर सुबह 8 बजे के बाद भी काउंटिंग जारी थी। इस चुनाव में बसपा को 2 सीटें मिलीं, जबकि समाजवादी पार्टी (सपा) को 1 सीट पर जीत मिली। वहीं 4 निर्दलीय उम्‍मीदवारों ने जीत दर्ज की।

पांच राज्‍यों- मध्‍य प्रदेश, राजस्‍थान, छत्‍तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में हुए विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना मंगलवार सुबह 8 बजे ही शुरू हो गई थी, लेकिन मध्‍य प्रदेश में काउंटिंग पूरी होने में 24 घंटों से भी अधिक का वक्‍त लग गया। चुनाव आयोग ने पहले ही कहा था कि यहां वोटर-वेरिफिएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (VVPAT) यूनिट से क्रॉस वेरिफ‍िकेशन के कारण चुनाव परिणामों की घोषणा में देरी हो सकती है।

  सभी 230 सीटों के नतीजे आए, 24 घंटे बाद पूरी हुई काउंटिंग,खंडित  जनादेश के साथ सरकार बनाने का दावा पेश chh 300x236 सभी 230 सीटों के नतीजे आए, 24 घंटे बाद पूरी हुई काउंटिंग,खंडित  जनादेश के साथ सरकार बनाने का दावा पेश latter 278x300 मध्‍य प्रदेश के साथ-साथ राजस्‍थान और छत्‍तीसगढ़ में भी कांग्रेस को शानदार कामयाबी मिली है। राजस्‍थान में कांग्रेस 99 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है, जबकि बीजेपी को यहां 74 सीटें मिली हैं। बसपा ने यहां 6 सीटों पर जीत दर्ज की है, जबकि 2 सीटें सीपीएम के खाते में गई हैं। यहां 13 निर्दलीय उम्‍मीदवारों ने जीत दर्ज की है, जबकि अन्‍य के खाते में 6 सीटें गई हैं।

छत्‍तीसगढ़ में कांग्रेस ने शानदार जीत दर्ज की है। यहां पार्टी ने अब तक 67 सीटों पर जीत दर्ज कर ली है, जबकि पिछले 15 साल से सत्‍तासीन बीजेपी महज 15 सीटों पर स‍िमट गई है। यहां अब भी एक सीट पर काउंटिंग जारी है, जहां कांग्रेस बढ़त बनाए हुए है।

  मध्यप्रदेश में सरकार बनाने में अब निर्दलीयों, बसपा एवं सपा की अहम भूमिका होने की उम्मीद है। इस चुनाव में कांग्रेस का बोट प्रतिशत करीब आठ फीसदी बढ़ा। उसे करीब 41 प्रतिशत वोट मिले हैं, जबकि भाजपा को भी 41 फीसदी से थोड़ा अधिक वोट मिला।

राजस्थान में सरकार के गठन में समर्थन देने के लिये कुछ निर्दलीय उम्मीदवार पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सम्पर्क में है। कांग्रेस के बागी इन उम्मीदवारों ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव जीते हैं। पार्टी के एक नेता ने बताया कि खंडेला से निर्दलीय विधायक महादेव खंडेला, दूदू से बाबू लाल नागर (दोनों पूर्व मंत्री) कांति प्रसाद सहित अन्य लोग गहलोत के सम्पर्क में हैं। 

राज्य में 199 सीटों पर हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 99 सीटें जीती हैं जो बहुमत के 100 के आंकड़े से एक सीट कम है। चुनाव जीत कर आये निर्दलीय उम्मीदवार कांग्रेस की सरकार के गठन में समर्थन करेंगे।

About Arun Kumar Singh

Check Also

नवरात्रि के चौथा दिन ! करें मां कुष्मांडा की पूजा, ये है मंत्र और महत्व              310x165

नवरात्रि के चौथा दिन ! करें मां कुष्मांडा की पूजा, ये है मंत्र और महत्व

नवरात्र का आज चौथा दिन है। देवीभागवत पुराण के अनुसार इस दिन देवी के चौथे …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.