Tuesday , August 21 2018 [ 4:01 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / मुख्यमंत्री ने होमगाड्र्स स्वयंसेवकों के प्रतिदिन मानदेय को  375 रु0 से बढ़ाकर 500 रु0 किया
[object object] मुख्यमंत्री ने होमगाड्र्स स्वयंसेवकों के प्रतिदिन मानदेय को  375 रु0 से बढ़ाकर 500 रु0 किया              658x330

मुख्यमंत्री ने होमगाड्र्स स्वयंसेवकों के प्रतिदिन मानदेय को  375 रु0 से बढ़ाकर 500 रु0 किया

     होमगाड्र्स जवानों के कल्याण कोष की राशि 5 करोड़ रु0 से बढ़ाकर 10 करोड़  रु0 की गयी
होमगाड्र्स स्वयंसेवकों एवं अवैतनिक अधिकारियों के अवशेष मानदेय 71 करोड़ 9 लाख रु0 की राशि का भुगतान होगा!
    [object object] मुख्यमंत्री ने होमगाड्र्स स्वयंसेवकों के प्रतिदिन मानदेय को  375 रु0 से बढ़ाकर 500 रु0 किया              300x172 मुख्यमंत्री ने होमगाड्र्स कार्यालय के 14 करोड़ 33 लाख रु0 की लागत से नवनिर्मित 4 भवनों का लोकार्पण किया!
ड्यूटी के दौरान दिवंगत हुए 27 होमगाड्र्स स्वयंसेवकों और अवैतनिक अधिकारियों के आश्रितों को 3-3 लाख रु0 का चेक वितरित किया !
अनुशासन एवं सराहनीय सेवाओं के लिए 10 होमगाड्र्स स्वयंसेवकों और अवैतनिक अधिकारियों को विभागीय पदक से सम्मानित !
उत्तर प्रदेश होमगाड्र्स संगठन अपनी एक नई पहचान बनाने में सफल रहा है
होमगाड्र्स संगठन के विकास की अपार सम्भावनाएं !मुख्यमंत्री जी ने पौधरोपण कर होमगाड्र्स संगठन द्वारा 11 लाख वृक्षारोपण अभियान का शुभारम्भ किया!मुख्यमंत्री ने मण्डलीय प्रशिक्षण केन्द्र होमगाड्र्स, लखनऊ के उद्घाटन समारोह को सम्बोधित किया !
 
लखनऊ: 7 अगस्त, 2018अरुण कुमार सिंह 
 
    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने होमगाड्र्स स्वयंसेवकों के प्रतिदिन मानदेय को 375 रुपये से बढ़ाकर 500 रुपये किये जाने की घोषणा की है। होमगाड्र्स जवानों के कल्याण कोष की राशि 5 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 
10 करोड़ रुपये की गयी है। साथ ही, होमगाड्र्स स्वयंसेवकों एवं अवैतनिक अधिकारियों के मानदेय की अवशेष देनदारी 71 करोड़ 9 लाख रुपये की राशि का भी भुगतान किया जाएगा।
  [object object] मुख्यमंत्री ने होमगाड्र्स स्वयंसेवकों के प्रतिदिन मानदेय को  375 रु0 से बढ़ाकर 500 रु0 किया  मुख्यमंत्री आज मण्डलीय प्रशिक्षण केन्द्र होमगाड्र्स, लखनऊ के उद्घाटन समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने होमगाड्र्स कार्यालय के 14 करोड़ 33 लाख रुपये की लागत से नवनिर्मित 4 भवनों का लोकार्पण किया। साथ ही, उन्होंने ड्यूटी के दौरान दिवंगत हुए 27 होमगाड्र्स स्वयंसेवकों और अवैतनिक अधिकारियों के आश्रितों को 3-3 लाख रुपये के चेक वितरित किये। यह राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष से प्रदान की गयी है।
     उन्होंने अच्छी वर्दी, अच्छे टर्न, अनुशासन एवं सराहनीय सेवाओं के लिए 10 होमगाड्र्स स्वयंसेवकों और अवैतनिक अधिकारियों को विभागीय पदक से सम्मानित भी किया।
मुख्यमंत्री  ने होमगाड्र्स संगठन से जुड़े सभी अधिकारियों और स्वयंसेवकों को भवनों के लोकार्पण अवसर पर बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश होमगाड्र्स संगठन अपनी एक नई पहचान बनाने में सफल रहा है। यह अवसर उस सफलता को और आगे ले जाने का एक सराहनीय प्रयास है। उन्होंने कहा कि अवस्थापना सुविधाओं की वृद्धि से कार्य करने वालों का मनोबल बढ़ता है। उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि नई सुविधाओं से होमगाड्र्स स्वयंसेवक अपने दायित्वों के निर्वहन को और कुशलतापूर्वक ढंग से सम्पादित कर सकेंगे। 
मुख्यमंत्री  ने कहा कि होमगाड्र्स स्वयंसेवक अच्छा प्रशिक्षण प्राप्त कर वे अनुशासित ढंग से ईमानदारी के साथ निष्ठापूर्वक कार्य करें, तो वे और अच्छी पहचान बना सकते हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की कि होमगाड्र्स स्वयंसेवक अपनी गौरवशाली परम्पराओं के अनुरूप भविष्य में भी अपनी भूमिका का निर्वहन करते रहेंगे और उपलब्धियों को प्राप्त करते हुए नई बुलन्दियों को छुएंगे।
मुख्यमंत्री ने नवनिर्मित भवनों के निर्माण की कार्यदायी संस्था की सराहना करते हुए कहा कि इस संस्था ने समयबद्ध ढंग से भवनों का निर्माण कार्य पूरा किया है। उन्होंने कहा कि समयबद्ध और सही ढंग से परियोजनाओं का निर्माण न होने से राष्ट्रीय क्षति होती है। परियोजनाओं में होने वाली देरी से उनकी लागत बढ़ती है, जिसकी कीमत पूरे समाज व प्रदेश को चुकानी पड़ती है। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि होमगाड्र्स विभाग का प्रदेश पुलिस के सहयोगी बल के रूप में महत्वपूर्ण स्थान है। अभी तक यह विभाग कई समस्याओं का सामना करता रहा है। पूर्व में इस संगठन को अपेक्षित महत्व नहीं दिया गया। स्वयंसेवकों की निरन्तर ड्यूटी की भी समस्या रही है, जिसके मद्देनजर वर्तमान सरकार ने ड्यूटी अवसरों में वृद्धि की। आज होमगाड्र्स स्वयंसेवकों को अधिक ड्यूटियां प्राप्त हो रही हैं। उन्होंने कहा कि होमगार्ड विभाग की मूलभूत समस्याओं को चिन्हित करते हुए उनके चरणबद्ध निराकरण की कार्ययोजना लागू की गयी। पिछले 16 महीने के दौरान वर्तमान सरकार ने इस संगठन की अनेक समस्याओं का समाधान किया है। 
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि होमगाड्र्स संगठन के विकास की अपार सम्भावनाएं हैं। इस संगठन को समय की आवश्यकता के अनुरूप विभिन्न अवसरों के लिए अपने को तैयार करना होगा। शान्ति व्यवस्था, यातायात प्रबन्धन और आपदा के समय पुलिस के सहयोगी संगठन के रूप में होमगाड्र्स प्रदेश के 22 करोड़ जनता की सेवा कर रहे हैं। आज सुरक्षा का कार्य एक चुनौती है। होमगाड्र्स, सुरक्षा और खासतौर से महिला सुरक्षा के लिए उचित प्रशिक्षण प्राप्त कर समाज की बेहतर सेवा कर सकते हैं। 
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि होमगाड्र्स संगठन इस बात पर भी विचार करे कि वे समाज के विभिन्न क्षेत्रों में क्या योगदान कर सकता है? और इसके लिए वह प्रशिक्षण प्राप्त कर कार्य करे। यदि होमगाड्र्स संगठन इस दिशा में आगे बढ़े तो स्वयंसेवकों की निरन्तर ड्यूटी की समस्या का निश्चित रूप से समाधान होगा।
मुख्यमंत्री  ने कहा कि होमगाड्र्स की संख्या में पिछले साल 25,000 की बढ़ोत्तरी की गयी। होमगाड्र्स संगठन को और अधिक चुस्तदुरुस्त और मुस्तैद रखने के लिए जवानों को इंसास राइफलें उपलब्ध करायी गयीं। उन्होंने होमगाड्र्स संगठन को सामाजिक जिम्मेदारियों के प्रति संवेदनशील बताते हुए कहा कि होमगाड्र्स जवानों द्वारा पूरे प्रदेश में एक लाख पौधे रोपित किये गये थे। इस वर्ष यह लक्ष्य 11 लाख वृक्षारोपण का है, जो निश्चित रूप से पूरा होगा। मुख्यमंत्री जी ने इस अवसर पर पौधा रोपित कर इस अभियान का शुभारम्भ भी किया। 
मुख्यमंत्री  ने कहा कि पिछले वर्ष बिजनौर से बलिया जनपद तक होमगाड्र्स संगठन द्वारा ‘नमामि गंगे जागृति यात्रा’ का सफल आयोजन किया गया। इस कार्य को आगे बढ़ाते हुए स्वच्छता अभियान में भी जवानों द्वारा महत्वपूर्ण योगदान दिया गया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व में केन्द्र व राज्य सरकार ने गंगा जी को प्रदूषणमुक्त किये जाने का संकल्प लिया है। इस दिशा में तेजी से कार्यवाही की जा रही है। केन्द्र सरकार द्वारा ‘नमामि गंगे’ परियोजना के लिए 20,000 करोड़ रुपये की धनराशि आवंटित की गयी है। गंगा जी को अविरल और निर्मल एवं प्रदूषणमुक्त बनाने के लिए मुख्यमंत्री जी ने सभी के सहयोग की अपील करते हुए कहा कि जल संसाधनों सहित पर्यावरण की सुरक्षा हम सबका दायित्व है। 
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश में प्लास्टिक के प्रतिबन्ध के लिए चरणबद्ध योजना बनायी गयी है। 50 माइक्राॅन से कम की पाॅलीथीन को प्रदेश में प्रतिबन्धित कर दिया गया है। आगामी 15 अगस्त से प्लास्टिक के कप, प्लेट, चम्मच व गिलास तथा 2 अक्टूबर से डिस्पोज़बल प्लास्टिक को भी प्रतिबन्धित कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदूषण नियंत्रण एवं वृक्षारोपण से हम पर्यावरण सुरक्षा का कार्य बखूबी ढंग से कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि पौधरोपण करना ही काफी नहीं है, बल्कि उसकी सुरक्षा और देखभाल भी किया जाना जरूरी है, जिससे वह पौधा वृक्ष का रूप ले सके।
इस अवसर पर होमगाड्र्स राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री अनिल राजभर ने मुख्यमंत्री जी का स्वागत और अभिनन्दन करते हुए कहा कि होमगाड्र्स संगठन को मुख्यमंत्री जी का निरन्तर मार्गदर्शन मिलता रहा है। उनके मार्गदर्शन में यह संगठन प्रदेश की जनता की सेवा के लिए संकल्पित है। अपर मुख्य सचिव होमगाड्र्स श्री कुमार कमलेश ने संगठन के कार्याें और गतिविधियों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यह संगठन अपनी पहचान कायम करने में सफल रहा है।
पूर्व में, मुख्यमंत्री  को होमगाड्र्स द्वारा गार्ड आॅफ आॅनर दिया गया। उन्होंने होमगाड्र्स संगठन के कार्याें और उपलब्धियों पर आधारित फोटो प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। 
समारोह का शुभारम्भ मुख्यमंत्री जी ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। उन्होंने डाॅ0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी और पं0 दीनदयाल उपाध्याय के चित्रों पर माल्यार्पण किया। मुख्यमंत्री जी को स्मृति चिन्ह, शाॅल व पुस्तक भेंट की गयी। डी0जी0 होमगाड्र्स डाॅ0 सूर्य कुमार ने सभी के प्रति आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया। 
    इस अवसर पर वित्त मंत्री श्री राजेश अग्रवाल, सहकारिता मंत्री श्री मुकुट बिहारी वर्मा, डी0जी0पी0 श्री ओ0पी0 सिंह, शासन व प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारीगण, बड़ी संख्या में होमगाड्र्स संगठन के अधिकारी व स्वयंसेवक एवं मीडियाकर्मी उपस्थित थे।

About Arun Kumar Singh

Check Also

[object object] हर वर्ष विभाजन की टीसें छोड़ जाता है स्वतन्त्रता दिवस              310x165

हर वर्ष विभाजन की टीसें छोड़ जाता है स्वतन्त्रता दिवस

      मानचित्र में जो दिखता है नहीं देश भारत है। भू पर नहीं …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.