Monday , July 16 2018 [ 9:57 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / दिल्ली: बुराड़ी में एक साथ 11 लाश मिलने का राज और गहराया
[object object] दिल्ली: बुराड़ी में एक साथ 11 लाश मिलने का राज और गहराया delhi 11 sucide ff 1 660x330

दिल्ली: बुराड़ी में एक साथ 11 लाश मिलने का राज और गहराया

     राजधानी दिल्ली के बुराड़ी इलाके में संत नगर के एक घर में रविवार को एक साथ 11 लोगों की सामूहिक हत्या से सनसनी फैल गई है। मरने वालों में से नौ की आंखों पर पट्टी बंधी थी और वे घर की पहली मंजिल पर लॉबी के जाल से लटके हुए थे।

      [object object] दिल्ली: बुराड़ी में एक साथ 11 लाश मिलने का राज और गहराया delhi 11 sucide ff 1 300x225एक महिला का शव कमरे के गेट से लटका हुआ था, जबकि बुजुर्ग महिला का शव जमीन पर अलग कमरे में पड़ा था। पुलिस को काले जादू के चक्कर में हत्या का अंदेशा है। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर जांच आरंभ कर दी है। जांच में क्राइम ब्रांच को भी लगाया गया है। 

काले जादू का है शक

     बुराड़ी कांड में काले जादू का शक है। पुलिस टीम इसी बिंदु को आधार बनाकर मामले की जांच आगे बढ़ा रही है। पुलिस ने भाटिया परिवार की एक डायरी भी बरामद की है, जिसमें भगवान के दर्शन करने के लिए दस बातें लिखी हुई हैं। यह डायरी घर में बने पूजा कमरे में रखी हुई थी। इसी के आधार पर ही पुलिस हत्याकांड में तंत्र-मत्र, कलयुगी बाबा व काले जादू का अंदेशा जता रही है।

     मामले की जांच कर रहे एडिशनल डीसीपी विनीत कुमार के मुताबिक, घर की तलाशी के दौरान एक डायरी में कुछ हस्तलिखित नोट्स मिले हैं, जिससे ऐसा प्रतीत होता है कि पूरा परिवार कोई विशेष आध्यात्मिक, धार्मिक प्रयास के आधार पर भगवान के दर्शन करने का अभ्यास कर रहा था। खास बात यह है कि जो कुछ भी इस डायरी के नोट्स में लिखा है, कमोबेश उसी तरीके से भाटिया परिवार के सभी सदस्यों के मुंह व आंखों पर पट्टी बंधी थी और उन पर टेप चिपका हुआ था। पुलिस इसी पहलू को ध्यान में रखते हुए मौत की असली वजहों का पता लगाने में जुटी है। suspicion-of-black-magic-behind-death-of-11-of-a-family-in-burari-in-delhi-

About Arun Kumar Singh

Check Also

[object object] पुनरुद्धार से पांवधोई नदी अपने वास्तविक स्वरूप को प्राप्त करेगी,  इसके तल का क्षेत्रफल बढ़ेगा तथा जल की मात्रा में वृद्धि होगी                    310x165

पुनरुद्धार से पांवधोई नदी अपने वास्तविक स्वरूप को प्राप्त करेगी, इसके तल का क्षेत्रफल बढ़ेगा तथा जल की मात्रा में वृद्धि होगी

    नदी के प्रथम भाग उद्गम स्थल शंकलापुरी मन्दिर से बाबा लालदास के बाड़े …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.