Monday , July 16 2018 [ 9:33 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / जयपुर से गंगानगर के लिए भी हवाई सेवा शुरू। यात्रियों के अभाव में अजमेर से उदयपुर की सेवा हो चुकी है बंद।
[object object] जयपुर से गंगानगर के लिए भी हवाई सेवा शुरू। यात्रियों के अभाव में अजमेर से उदयपुर की सेवा हो चुकी है बंद।                       509x330

जयपुर से गंगानगर के लिए भी हवाई सेवा शुरू। यात्रियों के अभाव में अजमेर से उदयपुर की सेवा हो चुकी है बंद।

   जयपुर से गंगानगर के लिए भी हवाई सेवा शुरू। यात्रियों के अभाव में अजमेर से उदयपुर की सेवा बंद हो चुकी है। टिकट पर सरकार देती है ढाई हजार रुपए का अनुदान।
   [object object] जयपुर से गंगानगर के लिए भी हवाई सेवा शुरू। यात्रियों के अभाव में अजमेर से उदयपुर की सेवा हो चुकी है बंद।                       300x220 देर से प्राप्त समाचारों के अनुसार 10 जुलाई को सीएम वसुंधरा राजे ने जयपुर से गंगानगर के लिए भी हवाई सेवा की शुरुआत कर दी है। अब रोजाना जयपुर से प्रातः 7 बजे और शाम को चार बजे विमान उड़ेगा। इसी प्रकार गंगानगर की लालगढ़ हवाई पट्टी से प्रातः9 बजे तथा शाम 6 बजे जयपुर के लिए उड़ान होगी। सुप्रीम एयरलाइंस के एमडी अमित अग्रवाल ने बताया कि जयपुर गंगानगर का किराया मात्र ढाई हजार रुपए रखा गया। इंटरस्टेट कनेक्टीविटी के अंतर्गत अब जयपुर से जोधपुर, उदयपुर, बीकानेर, धौलपुर जैसलमेर आदि शहरों के लिए रोजाना हवाई सेवा चालू है। राज्य सरकार से हुए समझौते के अनुरूप अनुदान भी दिया जा रहा है। आम व्यक्ति भी हवाई सेवा का लाभ उठा सके। जल्द ही राजस्थान में हवाई सेवा का विस्तार किया जाएगा।
अजमेर-उदयपुर सेवाबंद हो चुकी हैः
   सुप्रीम एयरलाइंस ने अजमेर के किशनगढ़ एयरपोर्ट से उदयपुर के लिए 10 सीटर वाले विमान से सेवा शुरू की थी, लेकिन यात्रियों के अभाव में इस सेवा को एक पखवाड़े में ही बंद करना पड़ा। एयर लाइंस को अजमेर से उदयपुर के लिए रोजाना पांच यात्री भी नहीं मिले। कई बार तो एक भी यात्री नहीं होने की वजह से उड़ान को ही रद्द करना पड़ा। किशनगढ़ से उदयपुर का किराया भी मात्र 2500 रुपए रखा गया था।

About Arun Kumar Singh

Check Also

[object object] पुनरुद्धार से पांवधोई नदी अपने वास्तविक स्वरूप को प्राप्त करेगी,  इसके तल का क्षेत्रफल बढ़ेगा तथा जल की मात्रा में वृद्धि होगी                    310x165

पुनरुद्धार से पांवधोई नदी अपने वास्तविक स्वरूप को प्राप्त करेगी, इसके तल का क्षेत्रफल बढ़ेगा तथा जल की मात्रा में वृद्धि होगी

    नदी के प्रथम भाग उद्गम स्थल शंकलापुरी मन्दिर से बाबा लालदास के बाड़े …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.