Friday , January 24 2020 [ 11:50 AM ]
Breaking News
Home / अन्य / दिग्विजय पर भारी पड़ते साध्वी के आंसू
दिग्विजय पर भारी पड़ते साध्वी के आंसू Capture 17

दिग्विजय पर भारी पड़ते साध्वी के आंसू

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को बीजेपी ने भोपाल से दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनावी मैदान में उतारा है। ये बात अलग है अब इस मुद्दे पर राजनीति हो रही है। इन सबके बीच उन्होंने अपने दर्द का इजहार किया।

दिग्विजय पर भारी पड़ते साध्वी के आंसू
प्रज्ञा सूंघ ठाकुर जेल के दौरान

भोपाल,संजय मिश्रा : भोपाल संसदीय सीट के लिए कांग्रेस ने अपने सबसे मजबूत चेहरों में से एक दिग्विजय सिंह को चुनावी मैदान में उतारने का फैसला किया तो एक सवाल था कि बीजेपी की तरफ से वो चेहरा कौन होगा। पहले खबर आई कि बीजेपी की तरफ से शिवराज सिंह चौहान या उमा भारती उनके खिलाफ चुनाव लड़ सकती हैं। लेकिन अब प्रज्ञा ठाकुर के रूप में बीजेपी का चेहरा है जो दिग्विजय सिंह को चुनौती देंगी। 

प्रज्ञा, दिग्विजय के बीच भोपाल की दिलचस्प राजनीति
प्रज्ञा ठाकुर का नाम आते ही, भगवा आतंकवाद, हिंदू आतंकवाद जैसे शब्दों की बरबस याद आ जाती है। दरअसल यूपीए-दो के दौरान मालेगांव धमाका हुआ था और उन धमाकों के तार जिन संगठनों या शख्सितों से जोड़े गए वो हिंदू विचारधारा को बढ़ाने वाले माने जाते थे। उनमें से ही एक नाम प्रज्ञा ठाकुर का था। उम्मीदवारी की घोषणा के बाद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि उनके पास बड़ी शक्ति है और निश्चित तौर पर वो दिग्विजय सिंह को चुनौती देने में कामयाब होंगी।

दिग्विजय पर भारी पड़ते साध्वी के आंसू

प्रज्ञा ठाकुर की चुनौती के बारे में दिग्विजय सिंह ने कहा कि वो उनका स्वागत करते हैं। लेकिन राजनीतिक हल्कों से ये आवाज आई कि देश को बीजेपी किस तरफ ले जा रही है। एक ऐसे शख्स को टिकट दिया गया जिस पर आतंकवाद का इल्जाम है और वो जमानत पर है। जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने कहा कि जिस स्वास्थ्य के आधार पर प्रज्ञा को जमानत दी गई वो उसका माखौल उड़ा रही हैं। खराब स्वास्थ्य का हवाला देकर वो जेल से बाहर आईं और अब चुनाव लड़ने के लिए उनका स्वास्थ्य बेहतर है। लिहाजा उनकी बेल खारिज होनी चाहिए।

ये बात अलग है कि प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि जो लोग बेल की बात कर रहे हैं उन्हें ये नहीं भूलना चाहिए कि बेल पर और कुछ लोग हैं जो चुनावी ताल ठोंक रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने अपने दर्ज को बयां किया जिसे उन्होंने हिरासत के साथ जेल में रहने के दौरान भोगा था। अपनी बात रखते रखते वो रो पड़ीं।

दिग्विजय पर भारी पड़ते साध्वी के आंसू Capture 17

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का छलका दर्द
साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि पूछताछ के दौरान अधिकारी सिर्फ एक ही बात कहलवाना चाहते थे कि तुमने एक विस्फोट किया है और मुस्लिमों को मारा है। पिटाई खाते खाते सुबह हो जाती थी। लोग बदल जाते थे। लेकिन मार खाने वाली मैं सिर्फ अकेली रहती थी। पुलिस अधिकारी, बेल्ट से उन्हें बेरहमी से मारते थे। एक समय तक वो दर्द से कराहती रहती थीं। लेकिन कुछ समय के बाद उन्हें कुछ अहसास नहीं रहता था। पूरा शरीर सुन्न पड़ जाता था। मेरे घावों पर नमक का पानी डाला जाता था।मेरी शरीर पर इतने टेस्ट हुए जिसकी वजह से कैंसर हो गया। पूछताछ करने वाले इस बात के लिए दबाव डालते थे कि वो किसी तरह ये बात कहें कि मालेगांव धमाके में आरएसएस का भी हाथ। लेकिन उन्होंने अपने आपको भगवान के हवाले कर दिया था। 

बचाव में उतरे राम माधव

बीजेपी के महासचिव और प्रवक्ता राम माधव ने कहा कि भगवा आतंकवाद या हिंदू आतंवाद यूपीए के दिमाग की उपज थी। ऐसा कुछ न तो कभी अस्तित्व में था और न है। कुछ लोगों को गलत ढंग से जेल में रखा गया। कोई भी शख्स सिर्फ इस आधार पर किसी उम्मीदवार की संवैधानिक वैधता पर सवाल नहीं खड़ा कर सकता है जिसके खिलाफ महज आरोप लगे हों।

इसके साथ ही राम माधव ने ये भी कहा कि प्रज्ञा ठाकुर को चुनावी मैदान में लाने का फैसला मध्य प्रदेश बीजेपी यूनिट का है। दिग्विजय सिंह के खिलाफ प्रज्ञा ठाकुर एक बेहतर उम्मीदवार हैं। दिग्विजय सिंह वो शख्स हैं जिनके जरिए हिंदू धर्म, साधु और साध्वियों के बारे में अफवाह फैलाने के साथ गलतबयानी की गई। दिग्विजय को चुनौती देने के लिए एक उपयुक्त शख्स की जरूरत थी और प्रज्ञा ठाकुर निश्चित तौर पर उनके खिलाफ सही उम्मीदवार हैं।

About Arun Kumar Singh

Check Also

सी0ए0ए0 नागरिकता देने का कानून है, लेने का नहीं: मुख्यमंत्री Capture 13 310x165

सी0ए0ए0 नागरिकता देने का कानून है, लेने का नहीं: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने कानून व्यवस्था, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, कम्बल वितरण, गोवंश, रैन बसेरों की व्यवस्थाओं के …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.