Wednesday , September 26 2018 [ 3:57 AM ]
Breaking News
Home / अन्य / रोटोमैक लोन घोटाला: विक्रम कोठारी और बेटा राहुल कोठारी गिरफ्तार,घोटाले से सम्बन्धित प्वाइंट
रोटोमैक लोन घोटाला: विक्रम कोठारी और बेटा राहुल कोठारी गिरफ्तार,घोटाले से सम्बन्धित प्वाइंट mmm

रोटोमैक लोन घोटाला: विक्रम कोठारी और बेटा राहुल कोठारी गिरफ्तार,घोटाले से सम्बन्धित प्वाइंट

नई दिल्ली 
 रोटोमैक लोन घोटाला: विक्रम कोठारी और बेटा राहुल कोठारी गिरफ्तार,घोटाले से सम्बन्धित प्वाइंट Capture 3 300x244    पीएनबी घोटाले के बाद चर्चा में आए रोटोमैक लोन घोटाले में बड़ी कार्रवाई करते हुए सीबीआई ने रोटोमैक कंपनी के प्रमोटार विक्रम कोठारी और उनके बेटे राहुल कोठारी को गिरफ्तार कर लिया। दिल्ली में 4 दिन की पूछताछ के बाद उनकी गिरफ्तारी की गई है। कोठारी पर 3700 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप है। इसके पहले प्रवर्तन निदेशालय ने कोठारी और उनके परिजनों के जमीन, समुद्र और हवाई मार्ग से भारत छोड़ने पर रोक लगा दी थी।

दस पाइंट्स में समझिए रोटोमैक घोटाला: 

1. रोटोमैक कंपनी को पांच बैंकों- इलाहाबाद बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, इंडियन ओवरसीज बैंक और यूनियन बैंक ने लोन दिया था। कहा जाता है कि इन बैंकों ने शर्तों से समझौता कर लोन पास किया था। 

2. यूनियन बैंक ऑफ इंडिया की मुंबई शाखा से 485 करोड़ रुपये जबकि इलाहाबाद बैंक की कोलकाता शाखा से 352 करोड़ रुपये लोन लिया था। इनके अलावा, उन्होंने बाकी बैंकों से भी लोन लिए थे। 

3. एक साल बाद भी रोटोमैक कंपनी ने इन बैंकों का कथित तौर पर न लोन की रकम लौटाई और न ही ब्याज दिया। ऐसी स्थिति में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के दिशानिर्देशों के मुताबिक एक ऑथराइज्ड कमिटी गठित की गई। 

4. इस कमिटी ने 27 फरवरी 2017 को रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लि. को विलफुल डिफॉल्टर (जानबूझकर कर्ज नहीं चुकानेवाला) घोषित कर दिया। कमिटी ने खासकर बैंक ऑफ बड़ौदा की पहल पर यह आदेश पारित किया था। 

5. 13 अप्रैल 2017 को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड को उसकी उन संपत्तियों या किस्तों का ब्योरा पेश करने का निर्देश दिया जिनका बैंक ऑफ बड़ौदा को भुगतान किया गया है। 

6. कंपनी ने दलील दी कि रोटोमैक द्वारा चूक की तिथि के बाद से इस बैंक को 300 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य की संपत्तियों की पेशकश किए जाने के बावजूद बैंक ऑफ बड़ौदा ने उसे इरादतन चूककर्ता घोषित कर दिया। 

7. बैंक की ओर से पेश हुईं वकील अर्चना सिंह ने कहा था कि कंपनी को अपने बकाए का निपटान करने के लिए 550 करोड़ रुपये का भुगतान करना है। उन्होंने यह आरोप भी लगाया था कि कंपनी के निदेशक लोन रीपेमेंट से बचने के लिए दूसरी कंपनियों में पैसा लगा रहे हैं। 

8. कानपुर में माल रोड के सिटी सेंटर स्थित रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लि. के ऑफिस पर पिछले कई दिनों से ताला जड़ा मिला तो विक्रम कोठारी के देश से भागने की खबरें आने लगीं। 

9. इन खबरों से घबराकर कोठारी रविवार को सामने आए और कहा कि वह कानपुर में ही हैं। उन्होंने कहा, ‘बैंकों ने मेरी कंपनी को नॉन-परफॉर्मिंग ऐसेट (एनपीए) घोषित किया है, न कि डिफॉल्टर। मामला अब भी नैशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल (एनसीएलटी) में है। मैंने लोन लिया है और इसे जल्द वापस करूंगा।’ 

10. सीबीआई ने बैंक ऑफ बड़ौदा की शिकायत पर विक्रम कोठारी, साधना कोठारी, राहुल कोठारी समेत कुछ अज्ञात बैंक अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया। गुरुवार को उनकी गिरफ्तारी कर ली गई। 

   सीबीआई ने इसके पहले कोठारी के कई ठिकानों पर छापेमारी की थी। कोठारी के घर, दफ्तर, परिवार के बैंक लॉकरों और कोटक महिंद्रा बैंक में लंबी पड़ताल की गई थी। ईडी ने भी उनके खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है। ईडी के आदेश पर कोटक महिंद्रा बैंक में विक्रम और रोटोमैक के चालू खातों से निकासी पर पाबंदी लगा दी गई थी। आयकर विभाग के आदेश पर रोटोमैक ग्रुप के सारे बैंक खाते सीज कर दिए गए थे। rothmac-loan-scam-vikram-kothari-and-son-rahul-kothari-arrested-scandal-related-points

About Arun Kumar Singh

Check Also

[object object] शिवपाल ने रामगोपाल के  पैर छूकर किया चुनावी जंग का ऐलान        310x165

शिवपाल ने रामगोपाल के पैर छूकर किया चुनावी जंग का ऐलान

शिवपाल यादव अखिलेश की इसी दुखती रग को दबाने के लिए आज शुक्रवार को मुजफ्फरनगर …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.