Friday , January 24 2020 [ 11:27 AM ]
Breaking News
Home / अन्य / कश्मीर में आतंकियों के ‘अंतिम गढ़’ शोपियां में सुरक्षबलों की बढ़ी हलचल
कश्मीर में आतंकियों के ‘अंतिम गढ़’ शोपियां में सुरक्षबलों की बढ़ी हलचल NBT image

कश्मीर में आतंकियों के ‘अंतिम गढ़’ शोपियां में सुरक्षबलों की बढ़ी हलचल

     श्रीनगर(PTI)कश्मीर में ऑपरेशन ऑलआउट के तहत आतंकियों के सफाए में लगे सुरक्षाबल अब जेहादियों के अंतिम गढ़ को ध्वस्त करने में जुट गए हैं। दक्षिण कश्मीर का शोपियां जिला आतंकवादियों का सुरक्षित ठिकाना है और इसे उनके लिए ‘ग्राउंड जीरो’ के रूप में देखा जाता था, जहां वे खुलेआम घूमते थे। अधिकारियों ने बताया कि अब यहां सुरक्षाबलों की हलचल बढ़ गई है। सेना नए कैंप स्थापित कर रही है तो सीआरपीएफ की रिजर्व बटालियन पहुंच गई है।

 

security forces increase footprint in terrorist bastion shopian  कश्मीर में आतंकियों के ‘अंतिम गढ़’ शोपियां में सुरक्षबलों की बढ़ी हलचल NBT image
      अधिकारी के मुताबिक, इस साल अप्रैल में जब सुरक्षाबलों ने शोपियां जिले के हेफ शीरमाल इलाके में घुसने की कोशिश की तो उन्हें विरोध का सामना करना पड़ा। इसके बाद पुलिस, सेना और सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) के अधिकारियों ने शोपियां के संकट को दूर करने के लिए रात-रातभर जागना शुरू किया। शोपियां पीर पंजाल पहाड़ी रेंज के दक्षिण में स्थित है और आतंकियों के लिए जम्मू संभाग के डोडा, किश्तवाड़ और पुंछ इलाके में घुसने का रास्ता है।

पिछले साल 8 जुलाई को हिज्बुल मुजाहिदीन के पोस्टर बॉय बुरहान वानी के मारे जाने के बाद इस जिले के 37 युवक गायब हो गए। माना जा रहा है कि ये आतंकी संगठनों में शामिल हो गए होंगे।

अधिकारी ने बताया कि जवानों की संख्या बढ़ने के बाद लोकल इंटेलिजेंस मिलने लगा है। परिणामस्वरूप मुठभेड़ हो रहे हैं और कई बड़े आतंकी मारे गए, जिनमें हिज्बुल के लिए भर्ती करने वाला शेख मलदेरा और संगठन का फाइनैंसर वसीम शाह शामिल हैं।

सीआरपीएफ ने शोपियां में अतिरिक्त बटालियन भेजी है जिसमें 1 हजार जवान और अधिकारी शामिल हैं। 

    अधिकारी ने बताया कि शोपियां को आतंक मुक्त बनाने के लिए आर्मी के आतंकरोधी यूनिट विक्टर फोर्स के अगुआ मेजर जनरल बी.एस राजू और जम्मू-कश्मीर पुलिस के डेप्युटी इंस्पेक्टर जनरल (दक्षिण कश्मीर) एस.पी. पानी सीआरपीएफ के अधिकारियों के साथ मंथन कर रहे हैं और अपने प्लान्स को जांच रहे हैं। 

    जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बड़ी संख्या में अपने जवानों को जिले के विभिन्न इलाकों में भेज दिया है और जरूरत के मुताबिक त्वरित ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए इसके स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप्स की टीमों को आर्मी और सीआरपीएफ के साथ अटैच कर दिया गया है। 

     सेना ने अपने मौजूदा कैंप्स को मजबूत करने के साथ पांच नए कैंप नागबल, चिल्लीपोरा, मैत्रीबुघ, जैनपोरा और लरकीपोरा में स्थापित किए हैं। इसमें सबसे अहम चिल्लीपोरा आर्मी कैंप हो, जो कि हेफ शीरमाल इलाके के पास स्थित है। हरे और घने जंगलों की वजह से यह इलाका आतंकियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह है।

ऐतिहासिक मुगल रोड पर होने की वजह से रणनीतिक रूप से अहम शोपियां कश्मीर घाटी में घुसने का रास्ता उपलब्ध कराता है। यहां अभी करीब 15 सक्रिय आतंकवादी हैं, जिनमें से केवल सद्दा और जीनत-उल-इस्लाम ही A++ श्रेणी में हैं और उनपर ईनाम की घोषणा की जा चुकी है।

About Arun Kumar Singh

Check Also

सी0ए0ए0 नागरिकता देने का कानून है, लेने का नहीं: मुख्यमंत्री Capture 13 310x165

सी0ए0ए0 नागरिकता देने का कानून है, लेने का नहीं: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने कानून व्यवस्था, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, कम्बल वितरण, गोवंश, रैन बसेरों की व्यवस्थाओं के …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.