Wednesday , September 26 2018 [ 4:28 AM ]
Breaking News
Home / अन्य / जम्मू-कश्मीर! शहीद औरंगजेब के घर पहुंचीं रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, परिवारवालों का हालचाल पूछा
[object object] जम्मू-कश्मीर! शहीद औरंगजेब के घर पहुंचीं रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, परिवारवालों का हालचाल पूछा ssssss

जम्मू-कश्मीर! शहीद औरंगजेब के घर पहुंचीं रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, परिवारवालों का हालचाल पूछा

   रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण पुंछ में शहीद में हुए जवान औरंगजेब के घर पहुंची, परिवार वालों से की मुलाकात

 [object object] जम्मू-कश्मीर! शहीद औरंगजेब के घर पहुंचीं रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, परिवारवालों का हालचाल पूछा ssssss 300x149  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जम्मू-कश्मीर में तत्काल प्रभाव से राज्यपाल शासन लागू करने को मंजूरी दी है। इससे पहले राज्य के सभी प्रमुख राजनीतिक दलों के साथ चर्चा करने के बाद राज्यपाल एनएन वोहरा ने जम्मू-कश्मीर के संविधान की धारा 92 के तहत राज्यपाल शासन लागू करने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ       कोविंद को अपनी रिपोर्ट भेजी थी।

बताते चलें कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) से अपना समर्थन वापस ले लिया जिसके चलते जम्मू-कश्मीर में भाजपा-पीडीपी गठबंधन की सरकार अल्पमत में आ गई। जिसके बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया। 

   भाजपा व संघ के बीच एक सप्ताह पहले हुई बैठक में जम्मू कश्मीर को लेकर चिंता जताई गई थी। राज्य में न तो संघ का एजेंडा लागू हो पा रहा था और न ही आतंकवाद पर रोक। विकास कार्य भी धीमे पड़े थे। सूत्रों के अनुसार संघ की सलाह थी सरकार में ज्यादा दिन रहना नुकसान का सौदा होगा। 

इस बीच, औरंगजेब व शुजात बुखारी की घटनाओं के बाद खुफिया जानकारियों से सरकार के सुरक्षा तंत्र के कान खड़े हो गए। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने खुद प्रधानमंत्री को पूरा ब्योरा दिया और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने भी साफ कर दिया कि आकंतवाद के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी होगी। इसमें पीडीपी के साथ सरकार से मुश्किलें आ रही थीं। 

  सुबह शाह से मिले डोभाल 
अमित शाह ने मंगलवार सुबह भी डोभाल से मुलाकात कर घाटी की हालात पर चर्चा की। सूत्रों के अनुसार डोभाल ने शाह को बताया कि रमजान के महीने के युद्धविराम के बाद आतंकवाद के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अपरिहार्य हो गई है। इसके बाद शाह ने प्रधानमंत्री से चर्चा की। दोपहर में प्रदेश के कोर ग्रुप के साथ चर्चा कर गठबंधन तोड़ने पर मुहर लगा दी। प्रदेश नेतृत्व भी सरकार छोड़ने के पक्ष में रहा।

इससे पहले, राज्यपाल एनएन वोहरा को मंगलवार दोपहर फैक्स के जरिए एक चिट्ठी मिली जिसपर गठबंधन सरकार को बीजेपी का समर्थन वापस लेने के लिए राज्य भाजपा अध्यक्ष रविंदर रैना और भाजपा विधायी दल के नेता कविंदर गुप्ता के हस्ताक्षर थे। इसके बाद मुख्यमंत्री ने इस्तीफा दे दिया।

About Arun Kumar Singh

Check Also

[object object] शिवपाल ने रामगोपाल के  पैर छूकर किया चुनावी जंग का ऐलान        310x165

शिवपाल ने रामगोपाल के पैर छूकर किया चुनावी जंग का ऐलान

शिवपाल यादव अखिलेश की इसी दुखती रग को दबाने के लिए आज शुक्रवार को मुजफ्फरनगर …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.