Tuesday , October 23 2018 [ 7:32 AM ]
Breaking News
Home / अन्य / लद्दाख से अरुणाचल तक चीन सीमा पर भारत ने उतारे ज्यादा सैनिक, ब्रह्मोस और होवित्जर भी किए तैनात
[object object] लद्दाख से अरुणाचल तक चीन सीमा पर भारत ने उतारे ज्यादा सैनिक, ब्रह्मोस और होवित्जर भी किए तैनात BRAHMOS cruise missile 660x330

लद्दाख से अरुणाचल तक चीन सीमा पर भारत ने उतारे ज्यादा सैनिक, ब्रह्मोस और होवित्जर भी किए तैनात

  • Image result for brahmos missile [object object] लद्दाख से अरुणाचल तक चीन सीमा पर भारत ने उतारे ज्यादा सैनिक, ब्रह्मोस और होवित्जर भी किए तैनात BRAHMOS cruise missileभारत ने पूर्वी लद्दाख और सिक्किम में टी-72 टैंकों की तैनाती की है, जबकि अरुणाचल में ब्रह्मोस और होवित्जर मिसाइलों की हुई तैनाती

  • 2017 में चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने 426 बार भारतीय सीमा में घुसपैठ की थी

  • डोकलाम में चीन और भारतीय सैनिकों के बीच दो महीने से ज्यादा वक्त तक चले गतिरोध के बाद बढ़ी सैनिकों की तैनाती

[object object] लद्दाख से अरुणाचल तक चीन सीमा पर भारत ने उतारे ज्यादा सैनिक, ब्रह्मोस और होवित्जर भी किए तैनात chinaयहां भारतीय सैनिकों के सामने कठिन चुनौतियां हैं। कमजोर सड़कें, पुलों और इंटर-वैली कनेक्टिविटी कमजोर होने के साथ ही हथियारों, हेलिकॉप्टरों, ड्रोन्स और विशेष हथियारों के स्टॉक तक की कमी है। इसके बाद भी किसी ऑपरेशन के लिए सैनिकों की तैयारी और उनका मनोबल ऊंचा है। यही नहीं चीन से लगती 4,057 किलोमीटर लंबी वास्तविक सीमा रेखा पर भारत तेजी से अपनी सैन्य मजबूती बढ़ाने में जुटा है। 

अरुणाचल में उतारे ब्रह्मोस और होवित्जर मिसाइल 
भारत ने पूर्वी लद्दाख और सिक्किम में टी-72 टैंकों की तैनाती की है, जबकि अरुणाचल में ब्रह्मोस मिसाइलों और होवित्जर तोपों की तैनाती कर चीन के सामने शक्ति प्रदर्शन किया है। इसके अलावा पूर्वोत्तर में सुखोई-30 एमकेआई स्क्वेड्रन्स को भी उतारा गया है। बीते साल सर्दियों में चीनी सैनिकों के उत्तरी डोकलाम डेरा जमाने की घटना के बाद से भारतीय सेना ने यह बड़ा बदलाव और तैनाती की है। 

अकेले अरुणाचल में 50,000 सैनिक
 
अकेले अरुणाचल की रक्षा के लिए 4 इन्फ्रेंट्री माउंटेड डिविजन्स को तैनात किया गया है। हर इन्फेंट्री में 12,000 सैनिकों को रखा गया है। इसके अलावा 2 डिविजंस को रिजर्व रखा गया है। खासतौर पर तवांग में, जिसे चीन दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा बताता है, सैनिकों की तैनाती पहले से कहीं अधिक है। किबिथू-वालॉन्ग फ्रंटियर में तैनात एक सीनियर अफसर ने कहा, ‘हमारा प्राथमिक काम एलएसी पर शांति और स्थिरता बनाए रखना है और शांति के दौर में पर्वतीय चोटियों पर मजबूत उपस्थिति दर्ज कराना है।’ 

2017 में चीन ने 426 बार की घुसपैठ
विस्तारवादी और आक्रामक चीन अकसर सीमा पर घुसपैठ कर जोर-आजमाइश करता रहता है। बीते साल की बात करें तो चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने 426 बार घुसपैठ की थी। इनमें से करीब आधी बार दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने आ गए थे। 2016 में यह आंकड़ा 273 का था, लेकिन बीते सालों में चीन की आक्रामकता लगातार बढ़ती जा रही है।

India has deployed more soldiers, Brahmos and Howitzers, from Ladakh to Arunachal on the Chinese border.

About Arun Kumar Singh

Check Also

[object object] शिवपाल ने रामगोपाल के  पैर छूकर किया चुनावी जंग का ऐलान        310x165

शिवपाल ने रामगोपाल के पैर छूकर किया चुनावी जंग का ऐलान

शिवपाल यादव अखिलेश की इसी दुखती रग को दबाने के लिए आज शुक्रवार को मुजफ्फरनगर …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.