Monday , November 18 2019 [ 2:30 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / घातक हो सकता है दिल का दर्द, ऐसे पहचानें
घातक हो सकता है दिल का दर्द, ऐसे पहचानें Capture 5 471x330

घातक हो सकता है दिल का दर्द, ऐसे पहचानें

घातक हो सकता है दिल का दर्द, ऐसे पहचानें Capture 5

  •  घातक हो सकता है दिल का दर्द  सीने में दर्द एक गंभीर समस्या है और अगर इसका सही समय पर उचित इलाज न करवाया जाए तो यह घातक साबित हो सकता है। हालांकि यह भी जानना जरूरी है कि हार्ट में किस-किस तरह का दर्द होता है क्योंकि हर दर्द का इलाज और तरीका एक जैसा नहीं होता। आइए जानते हैं दिल में होने वाले दर्द और उनके इलाज के बारे में:
  •   हार्ट अटैक का दर्द  अगर सीने के बीचोंबीच तेज दर्द हो, दर्द लेफ्ट बाजू की ओर बढ़ता महसूस हो, सीने पर पत्थर जैसा दबाव महसूस हो, काफी घबराहट या बेचैनी हो, पसीना आए और दर्द कम होने के बजाय बढ़ता जाए तो समझ लीजिए कि यह हार्ट अटैक का दर्द हो सकता है। करीब 30 फीसदी लोगों में ये सारे लक्षण नजर नहीं आते।
  •  हार्ड अटैक का दर्द  मरीज को फौरन 300 मिग्रा की एस्प्रिन (Asprin) जैसे कि डिस्प्रिन (Disprin), एस्प्रिन (Easprin), इकोट्रिन (Ecotrin) आदि दें। इसके बाद बिना देर किए फौरन मरीज को अस्पताल ले जाएं। 3 घंटों में इलाज हो जाए तो ज्यादातर मरीजों को बचाया जा सकता है।
  •  एसिडिटी का दर्द  यह दर्द एक खास बिंदु पर चुभता महसूस होता है और यह इधर-उधर बढ़ता नहीं है। इसके इलाज के लिए 2-3 चम्मच ऐंटासिड (Antacid) जैसे कि डाइजीन (Digene), म्यूकेन जेल (Mucaine Gel), ऐसिडिन जेल (Acidin Gel) आदि लें। अगर दर्द ठीक न हो तो यह हार्ट अटैक का हो सकता है।
  •  एंजाइना का दर्द  छाती के बीच में भारी दबाव महसूस हो, दर्द जबड़े की ओर जाए बढ़ता लगे, छोटा-मोटा काम (नहाने और खाने जैसे काम करने पर भी) करने पर भी दिल में दर्द महसूस हो और आराम करने पर दर्द बंद हो जाए तो यह एंजाइना का दर्द हो सकता है।
  •  एंजाइना के दर्द का इलाज  मरीज आराम से लेट जाए। दर्द हो तो ग्लिसरिल ट्राइनाइट्रेट (Glyceryl Trinitrate) वाली 5mg की गोली जीभ के नीचे रख ले। यह मार्केट में सॉरबिट्रेट (Sorbitrate) और आइसोर्डिल (Isordil) आदि ब्रैंड के नाम से मिलती है। इससे नस का साइज बढ़ जाता है और पूरा ब्लड पहुंच जाता है। (सभी फोटो: gettyimages.in)


लहसुन
लहसुन में ऐंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। लहसुन के ऐंटीऑक्सिडेंट और विरोधी भड़काऊ गुण शरीर में रक्त परिसंचरण को बढ़ाते हैं और साथ ही स्पाइडर वेन्स की समस्या को कम करते हैं। बेहतर परिणाम के लिए लहसुन का सेवन बढ़ाएं।

अंगूर के बीज का रस
स्पाइडर वेन्स से छुटकारा पाने के लिए अंगूर के बीज का अर्क काफी फायदेमंद है। अर्क में बायोफ्लेवोनॉइड्स होते हैं, जिन्हें ओलिगोमेरिक प्रोएन्थोसाइनिडिन कॉम्प्लेक्स कहा जाता है। ये बायोफ्लेवोनॉइड्स रक्त परिसंचरण में सुधार करते हैं।

सेब का सिरका
स्पाइडर वेन्स में सेब का सिरका का उपयोग करने के लिए, सिरके में कपड़े का एक साफ टुकड़ा भिगोएं। फिर इस कपड़े को प्रभावित क्षेत्र के चारों ओर लपेटें। सेब का सिरका प्रभावित क्षेत्र में रक्त के प्रवाह में सुधार करता है, इस प्रकार आपको मकड़ी नसों से छुटकारा पाने में मदद करता है। बेहतर परिणामों के लिए, इस प्रक्रिया को रोजाना 2 से 3 बार दोहराएं।

अदरक
अदरक के यौगिक की उपस्थिति, स्पाइडर वेन्स का मुकाबला करने के लिए सबसे अच्छा प्राकृतिक अवयवों है। बेहतर परिणाम के लिए, दस मिनट के लिए पानी में अदरक उबालें।

स्पाइडर वेन्स अक्सर टीस मारने वाले दर्द और बेचैन पैरों से जुड़ी होती हैं। यह स्थिति 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में आम है। स्पाइडर वेन्स नसों में कमजोर वाल्व के कारण होती हैं। क्षतिग्रस्त वाल्व नसों में सूजन का कारण बनते हैं। उम्र बढ़ने, गर्भनिरोधक गोलियां, गर्भावस्था और बढ़े हुए बीएमआई (मोटापा) भी स्पाइडर वेन्स का कारण बनते हैं। आयुर्वेदाचार्य डॉ. एके मिश्रा आपको बता रहे हैं कि स्पाइडर वेन्स को दूर करने के घरेलू उपचार हैं।

इसलिए बनने लगती हैं स्पाइडर वेन्स
पैर में कई वॉल्व होते हैं, जो रक्त को हृदय की दिशा में प्रवाहित होने में मदद करते हैं। जब ये वॉल्व क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, तो सूजन, दर्द, थकान, खुजली के लक्षणों के साथ रक्त के थक्के बनना शुरू हो जाते हैं। निचले अंगों से हृदय की ओर रक्त का प्रवाह कम होने से नसों में खून एकत्रित होता रहता है। पैरों में सूजन आ जाती है। वैरिकोज वेंस में त्वचा के निचले हिस्से की नसें उभरकर बाहर आ जाती हैं। इसे स्पाइडर वेंस भी कहते हैं, क्योंकि नसें आपस में कुछ इस तरह से उलझ जाती हैं कि वे मकड़े की जाली की तरह दिखने लगती हैं। यह रोग आमतौर पर पैरों में होता है।

हरा टमाटर
हरा टमाटर स्पाइडर वेन्स का इलाज करने के लिए फायदेमंद होते हैं क्योंकि वे प्रभावित क्षेत्रों में रक्त परिसंचरण को बढ़ाते हैं। बेहतर परिणामों के लिए, हरे टमाटर को रिंग शेप में काट लें। एक पट्टी के साथ प्रभावित क्षेत्र पर टमाटर को बांधें।

​घातक हो सकता है दिल का दर्द, ऐसे पहचानें

  • सीने में दर्द एक गंभीर समस्या है और अगर इसका सही समय पर उचित इलाज न करवाया जाए तो यह घातक साबित हो सकता है। हालांकि यह भी जानना जरूरी है कि हार्ट में किस-किस तरह का दर्द होता है क्योंकि हर दर्द का इलाज और तरीका एक जैसा नहीं होता। आइए जानते हैं दिल में होने वाले दर्द और उनके इलाज के बारे में:
  • अगर सीने के बीचोंबीच तेज दर्द हो, दर्द लेफ्ट बाजू की ओर बढ़ता महसूस हो, सीने पर पत्थर जैसा दबाव महसूस हो, काफी घबराहट या बेचैनी हो, पसीना आए और दर्द कम होने के बजाय बढ़ता जाए तो समझ लीजिए कि यह हार्ट अटैक का दर्द हो सकता है। करीब 30 फीसदी लोगों में ये सारे लक्षण नजर नहीं आते।
  • मरीज को फौरन 300 मिग्रा की एस्प्रिन (Asprin) जैसे कि डिस्प्रिन (Disprin), एस्प्रिन (Easprin), इकोट्रिन (Ecotrin) आदि दें। इसके बाद बिना देर किए फौरन मरीज को अस्पताल ले जाएं। 3 घंटों में इलाज हो जाए तो ज्यादातर मरीजों को बचाया जा सकता है।
  • यह दर्द एक खास बिंदु पर चुभता महसूस होता है और यह इधर-उधर बढ़ता नहीं है। इसके इलाज के लिए 2-3 चम्मच ऐंटासिड (Antacid) जैसे कि डाइजीन (Digene), म्यूकेन जेल (Mucaine Gel), ऐसिडिन जेल (Acidin Gel) आदि लें। अगर दर्द ठीक न हो तो यह हार्ट अटैक का हो सकता है।
  • छाती के बीच में भारी दबाव महसूस हो, दर्द जबड़े की ओर जाए बढ़ता लगे, छोटा-मोटा काम (नहाने और खाने जैसे काम करने पर भी) करने पर भी दिल में दर्द महसूस हो और आराम करने पर दर्द बंद हो जाए तो यह एंजाइना का दर्द हो सकता है।
  • मरीज आराम से लेट जाए। दर्द हो तो ग्लिसरिल ट्राइनाइट्रेट (Glyceryl Trinitrate) वाली 5mg की गोली जीभ के नीचे रख ले। यह मार्केट में सॉरबिट्रेट (Sorbitrate) और आइसोर्डिल (Isordil) आदि ब्रैंड के नाम से मिलती है। इससे नस का साइज बढ़ जाता है और पूरा ब्लड पहुंच जाता है। (सभी फोटो: gettyimages.in)

लहसुन
लहसुन में ऐंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। लहसुन के ऐंटीऑक्सिडेंट और विरोधी भड़काऊ गुण शरीर में रक्त परिसंचरण को बढ़ाते हैं और साथ ही स्पाइडर वेन्स की समस्या को कम करते हैं। बेहतर परिणाम के लिए लहसुन का सेवन बढ़ाएं।

अंगूर के बीज का रस
स्पाइडर वेन्स से छुटकारा पाने के लिए अंगूर के बीज का अर्क काफी फायदेमंद है। अर्क में बायोफ्लेवोनॉइड्स होते हैं, जिन्हें ओलिगोमेरिक प्रोएन्थोसाइनिडिन कॉम्प्लेक्स कहा जाता है। ये बायोफ्लेवोनॉइड्स रक्त परिसंचरण में सुधार करते हैं।

सेब का सिरका
स्पाइडर वेन्स में सेब का सिरका का उपयोग करने के लिए, सिरके में कपड़े का एक साफ टुकड़ा भिगोएं। फिर इस कपड़े को प्रभावित क्षेत्र के चारों ओर लपेटें। सेब का सिरका प्रभावित क्षेत्र में रक्त के प्रवाह में सुधार करता है, इस प्रकार आपको मकड़ी नसों से छुटकारा पाने में मदद करता है। बेहतर परिणामों के लिए, इस प्रक्रिया को रोजाना 2 से 3 बार दोहराएं।

अदरक
अदरक के यौगिक की उपस्थिति, स्पाइडर वेन्स का मुकाबला करने के लिए सबसे अच्छा प्राकृतिक अवयवों है। बेहतर परिणाम के लिए, दस मिनट के लिए पानी में अदरक उबालें।

About Arun Kumar Singh

Check Also

अयोध्या फैसला :सुप्रीम कोर्ट ने वही फैसला लिया जैसा विश्व हिंदू परिषद और बीजेपी चाहते थे- नैशनल हेरल्ड Capture 2 310x165

अयोध्या फैसला :सुप्रीम कोर्ट ने वही फैसला लिया जैसा विश्व हिंदू परिषद और बीजेपी चाहते थे- नैशनल हेरल्ड

संबित पात्रा ने कहा, ‘अखबार कहता है कि सुप्रीम कोर्ट ने वही फैसला लिया जैसा …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.