Saturday , February 29 2020 [ 5:44 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / मुस्लिम पार्षद की मांग-स्कूल में बंद हो मंत्रों का पाठ, बताया धर्म के खिलाफ
मुस्लिम पार्षद की मांग-स्कूल में बंद हो मंत्रों का पाठ, बताया धर्म के खिलाफ NBT image 1 1

मुस्लिम पार्षद की मांग-स्कूल में बंद हो मंत्रों का पाठ, बताया धर्म के खिलाफ

अहमदाबाद 
ब्यूरो .गुजरात के अहमदाबाद निवासी एक मुस्लिम नेता ने स्कूलों में बच्चों से जबरदस्ती मंत्रों का पाठ कराने पर प्रतिबंध लगाने की मांग करते हुए इसे दूसरे को धर्म को जबरदस्ती थोपने जैसा करार दिया। यहां के मकतमपुरा के पार्षद हाजी असरार बेग मिर्जा ने सीबीएसई को पत्र लिखकर स्कूलों को इस संबंध में निर्देश देने का आग्रह किया है। 

Image result for डीएवी स्कूल अहमदाबाद  मुस्लिम पार्षद की मांग-स्कूल में बंद हो मंत्रों का पाठ, बताया धर्म के खिलाफ NBT image       सीबीएसई को लिखे पत्र में मुस्लिम नेता ने पूरे देश में फैले डीएवी स्कूलों को यह निर्देश देने का आग्रह किया कि बच्चों के साथ किसी धर्म विशेष के त्योहार में भाग लेने के लिए जबरदस्ती नहीं की जा सकती है।

     उन्होंने कहा, ‘स्कूलों को रमजान ईद और ईद-मिलाद त्योहारों को भी मनाना चाहिए। स्कूलों सभी बच्चों को वेद, मंत्र या किसी भी धार्मिक त्योहार को मनाने के लिए जबरदस्ती नहीं कर सकते हैं। मुस्लिम बच्चों को योग करने या फिर लाउडस्पीकर पर गायत्री मंत्र सुनने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता है।’ 

मिरर की रिपोर्ट के अनुसार डीएवी स्कूल में पढ़ने वाले मुस्लिम बच्चों के पैरंट्स ने गायत्री मंत्र पढ़वाने और हवन में शामिल करवाने की शिकायत की थी। पैरंट्स ने इसे संवैधानिक नियमों के खिलाफ बताया था। पैरंट्स ने स्कूलों में ईद का पर्व नहीं मनाए जाने की शिकायत भी की थी। 

 
जैसे अन्य धर्मों के लोग आज मदरसों में अपने बच्चे पढ़ने नहीं भेजते वैसे ही मुसलमानों को भी अपने बच्चे किसी अन्य धर्म से जुड़े स्कूलों में पढ़ने नहीं भेजना चाहिये.

       मुस्लिम नेता मिर्जा ने सीबीएसई को लिखे पत्र में कहा, ‘ऐडमिशन के वक्त स्कूल प्राधिकरण ने पैरंट्स को बताया था कि स्कूलों में हवन का कार्यक्रम साल में 1 या 2 बार ही मनाया जाएगा। स्कूल में हर रोज गायत्री मंत्रोच्चारण और हवन में शामिल होने पर मजबूर होना पड़ेगा, यह नहीं बताया गया था। स्कूल में वेद भी पढ़ाया जाता है और उसके लिए परीक्षा भी आयोजिक की जाती है। इसके अलावा प्लेग्राउंड में मंदिर भी है। यह सरासर धोखा है।’ 

        डीएवी इंटरनैशनल स्कूल की प्रिंसिपल निवेदिता गांगुली ने इस मामले पर कहा, ‘हमारे स्कूल में किसी भी समुदाय के बच्चों के साथ कोई भी भेदभाव नहीं किया जाता है। हम सभी बच्चों को एक बराबर समझते हैं। किसी भी धर्म, जाति को लेकर किसी तरह का भेदभाव नहीं है।’ 

     वहीं सरकारी अधिकारियों ने इस मसले पर किसी तरह की कोई याचिका नहीं मिलने की बात कही। डीपीईओ महेश मेहता ने कहा कि ऐसी कोई भी शिकायत मिलने पर मैं खुद जांच करुंगा। 

About Arun Kumar Singh

Check Also

संघर्ष करने वाले लोग हमेशा याद रखें गांधी जी का अहिंसा मंत्र-राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद Capture 3 310x165

संघर्ष करने वाले लोग हमेशा याद रखें गांधी जी का अहिंसा मंत्र-राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

राष्ट्रपति ने कहा, ‘राष्ट्र-निर्माण के लिए, महात्मा गांधी के विचार आज भी पूरी तरह से …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.