Monday , July 16 2018 [ 9:40 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / पूर्व प्रधानमंत्री के स्वयम भारत रत्न अवार्ड लेने के मामले में कांग्रेस ने दी सफाई
[object object] पूर्व प्रधानमंत्री के स्वयम भारत रत्न अवार्ड लेने के मामले में कांग्रेस ने दी सफाई 111 1993295 835x547 m 660x330

पूर्व प्रधानमंत्री के स्वयम भारत रत्न अवार्ड लेने के मामले में कांग्रेस ने दी सफाई

    प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू को भारत रत्‍न अवॉर्ड दिए जाने का मुद्दा सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। इसमें कहा जा रहा है कि उन्‍होंने खुद को यह अवॉर्ड दिलवाया, हालांकि कांग्रेस ने इसका बचाव किया है।

    [object object] पूर्व प्रधानमंत्री के स्वयम भारत रत्न अवार्ड लेने के मामले में कांग्रेस ने दी सफाई 111 1993295 835x547 m 300x197  नई दिल्‍ली : देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू को भारत रत्‍न अवॉर्ड दिए जाने का मुद्दा इन दिनों सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। इसमें कहा जा रहा है कि नेहरू ने खुद को यह अवॉर्ड दिलवाया, क्योंकि इसकी सिफारिश राष्‍ट्रपति से प्रधानमंत्री ही करते हैं। सोशल मीडिया पर इस तरह की गहमागहमी के बाद जहां बीजेपी आक्रामक तेवर अपनाए हुए है, वहीं कांग्रेस ने इसे ‘फर्जी’ करार दिया है। कांग्रेस ने कहा कि नेहरू को भारत रत्‍न दिए जाने के संबंध में सोशल मीडिया पर वायरल हो रही खबरें पूरी तरह फर्जी हैं।

     पार्टी का कहना है कि उन्‍होंने खुद इसके लिए अपना नाम आगे नहीं बढ़ाया, बल्कि देश के तत्‍कालीन व प्रथम राष्‍ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने इस संबंध में पहल करते हुए नेहरू को भारत रत्‍न देने का फैसला किया था।  सोशल मीडिया पर छाई इस तरह की बातों के बाद बीजेपी को जहां कांग्रेस पर निशाना साधने का एक और मौका मिल गया है, वहीं इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने भी कहा कि नेहरू को प्रधानमंत्री पद पर बने रहते हुए भारत रत्‍न नहीं स्‍वीकार करना चाहिए था। वह इसे लौटा सकते थे।

      यहां उल्‍लेखनीय है कि भारत रत्‍न सर्वोच्‍च प्रतिष्ठित नागरिक सम्‍मान है, जिसे विभिन्‍न क्षेत्रों में उत्‍कृष्‍ट सेवाओं के लिए दिया जाता है। इसकी शुरुआत 1954 में भारत सरकार ने की थी और तब से अब तक राजनीति, बिजनस, स्‍पोर्ट्स, संगीत सहित विभिन्‍न क्षेत्रों में सराहनीय काम करने वाली कई हस्तियों को यह अवॉर्ड दिया जा चुका है। नेहरू को यह अवॉर्ड 1955 में दिया गया था। 

About Arun Kumar Singh

Check Also

[object object] पुनरुद्धार से पांवधोई नदी अपने वास्तविक स्वरूप को प्राप्त करेगी,  इसके तल का क्षेत्रफल बढ़ेगा तथा जल की मात्रा में वृद्धि होगी                    310x165

पुनरुद्धार से पांवधोई नदी अपने वास्तविक स्वरूप को प्राप्त करेगी, इसके तल का क्षेत्रफल बढ़ेगा तथा जल की मात्रा में वृद्धि होगी

    नदी के प्रथम भाग उद्गम स्थल शंकलापुरी मन्दिर से बाबा लालदास के बाड़े …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.