Saturday , January 19 2019 [ 9:55 PM ]
Breaking News
Home / संपादकीय

संपादकीय

देशद्रोह के आरोपियों के प्रति हमदर्दी दिखाना अफ़सोस जनक

देशद्रोह के आरोपियों के प्रति हमदर्दी दिखाना  अफ़सोस जनक IMG 20180302 WA0668 Copy 291x330 291x165

अरुण कुमार सिंह (सम्पादक) 16 फरवरी 2016 को दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के परिसर में खुलेआम देशद्रोह के नारे लगे, इसमें दिल्ली पुलिस ने 13 जनवरी को अदालत में आरोप पत्र पेश कर दिया। इसमें छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार, उमर खालिद सहित दस लोगों को आरोपी …

Read More »

क्या भारतीय संस्कृति पुरातनपंथी है?

क्या भारतीय संस्कृति पुरातनपंथी है?           310x165

हमें भारतीय मूल्यों, भारतीय चिंतन और भारतीय संस्कृति की ओर बढ़ाना चाहिए या फिर पश्चिम से आए कचरे को भी सिर पर रखकर दौड़ लगा देना है? क्या भारतीय संस्कृति पुरातनपंथी है? क्या वर्ष प्रतिपदा ‘बैकवर्ड’ समाज का त्योहार है और न्यू ईयर ‘फॉरवर्ड’ का? प्रश्न तो यह भी है …

Read More »

क्या कंधार विमान अपहरण में अटल जी की सरकार ने घुटने टेके थे?

क्या कंधार विमान अपहरण में अटल जी की सरकार ने घुटने टेके थे?                    310x165

नई दिल्ली:  1999 में जब आईसी 814 विमान का अपहरण हुआ था, जिसेकंधार अपहरण कांड के नाम से जाना जाता है। तब कहा गया था कि अटल जी ने आतंकियों की मांग मानते हुए यात्रियों को छुड़ाने के लिए तीन आतंकियों को छोड़ दिया था, लेकिन क्या यह सच है …

Read More »

गणित के ध्रुव तारे श्रीनिवास रामानुजन:राष्ट्रीय गणित दिवस पर विशेष

गणित के ध्रुव तारे श्रीनिवास रामानुजन:राष्ट्रीय गणित दिवस पर विशेष ramanuj 310x165

रामानुजन ने गणित के ऐसे-ऐसे सिद्धांत दिए जिन्‍हें आज तक सुलझाया नहीं जा सका है. उनके फॉर्मूलों कई वैज्ञानिक खोजों में मददगार साबित हुए. उनके लिखे हुए कई थ‍ियोरम सिद्ध किए जा चुके हैं. नई द‍िल्‍ली : भारत के महान गण‍ितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन का आज जन्‍म दिन है. इस दिन को …

Read More »

वीर जोरावर सिंह एवं वीर फ़तेह सिंह बलिदान दिवस विशेष …

वीर जोरावर सिंह एवं वीर फ़तेह सिंह बलिदान दिवस विशेष … Screenshot 2018 12 26 19 59 34 867 com

वीर जोरावर सिंह एवं वीर फ़तेह सिंह बलिदान दिवस26 दिसंबर -1705 20 दिसम्बर, 1705 को गुरु गोबिन्द सिंह जी ने सिखों और परिवार के साथ मुगल सेना के साथ संघर्ष करते हुए श्री आनन्दपुर साहिब जी को छोड़ा।  सरसा नदी पार करते-करते कई झड़पें हुई, जिसमें कई सिक्ख मारे गए। …

Read More »

भारत के प्रथम प्रधानमंत्री कौन !सुभाष चंद्र बोस या पंडित नेहरू ?

भारत के प्रथम प्रधानमंत्री कौन !सुभाष चंद्र बोस या पंडित नेहरू ? IMG 20180302 WA0668 Copy 291x330 291x165

मोदी जी ने बड़ी दुविधा पैदा कर दी है समझ में नहीं आ रहा है कि पहला प्रधानमंत्री सुभाष चंद्र बोस को लिखूं या जवाहरलाल नेहरू को और प्रतियोगिताओं के विद्यार्थी क्या करें इस पर सरकार की तरफ से शीघ्र प्रकाश डाला जाए…… बिना किसी लाग लपेट के स्पष्ट रूप …

Read More »

मैंने डायर को मारा?मर शहीद उधम सिंह की जयन्ती पर विशेष ….

मैंने डायर को मारा?मर शहीद उधम सिंह की जयन्ती पर विशेष …. FB IMG 1545832569849 1 310x165

“ मैंने डायर को मारा, क्योंकि वह इसी के लायक़ था। मैंने ब्रिटिश राज्य में अपने देशवासियों की दुर्दशा देखी है। मेरा कर्तव्य था कि मैं देश के लिए कुछ करूं। मुझे मरने का डर नहीं है। देश के लिए कुछ करके जवानी में मरना चाहिए।” – शहीद ऊधमसिंह जालिंयावाला …

Read More »

श्रीमद्भागवत के प्रवचन से मिलती दक्षिणा भी लगाते रहे विश्वविद्यालय में–मदनमोहन मालवीय जयंती विशेष

श्रीमद्भागवत के प्रवचन से मिलती दक्षिणा भी लगाते रहे विश्वविद्यालय में–मदनमोहन मालवीय जयंती विशेष madan mohan malviy 310x165

      पं0 मदनमोहन मालवीय जयंती (25 दिसम्बर) : —-श्रीमद्भागवत के प्रवचन से मिलती दक्षिणा भी लगाते रहे विश्वविद्यालय में ।  अद्वितीय एवं विलक्षण प्रतिभा  भी ईश्वरीय कृपा से मिलती है । इसके साक्षात प्रमाण काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के संस्थापक पं0 मदनमोहन मालवीय जी थे । वे 17 वर्ष के …

Read More »

मुसलमान भाईयो की एकता ओर मुसलमानो की 3राज्यों की जीत की बधाई देता हूँ….

मुसलमान भाईयो की एकता ओर मुसलमानो की 3राज्यों की जीत की बधाई देता हूँ…. IMG 20180302 WA0668 Copy 291x165

मैं मुस्लिमभाई को 3 राज्यों मे जीत की बधाई देता हु । मैं आपकी एकता ओर जुनुन को सलाम करता हु आप किसी भी कीमत पर अपने मकसद से पीछे नहीं हटे। ये जीत आपकी रणनीति की जीत है ।  नरेन्द्र मोदी भारत को इस्लामिक राष्ट्र होने से बचाए -जज …

Read More »

संसद हमले की वर्षी पर विशेष -जब खून और मांस के लोथड़े संसद के पोर्च की दीवारों से चिपक गए थे

संसद हमले की वर्षी पर विशेष -जब खून और मांस के लोथड़े संसद के पोर्च की दीवारों से चिपक गए थे        261x165

संसद में फायरिंग और बम धमाके की कान फाड़ देने वाली आवाज के बीच शुरुआती मिनटों में पूरे परिसर में जबरदस्त अफरातफरी मची रही. कहते हैं कुछ तारीखें अपने साथ इतिहास लेकर आती हैं. 13 दिसंबर 2001 की तारीख भी इतिहास में दर्ज हो जाने के लिए आई. भारतीय लोकतंत्र को थर्रा देने के …

Read More »
Copyright © 2017, All Right Reversed.