Wednesday , October 23 2019 [ 3:41 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / जिस मकसद व सपनों के साथ राजनीति में आया था,वे पूरे हुए सपना था, ‘जहां हुए बलिदान मुखर्जी, वह कश्मीर हमारा हो-गिरिराज सिंह
जिस  मकसद व सपनों के साथ राजनीति में आया था,वे पूरे हुए  सपना था, ‘जहां हुए बलिदान मुखर्जी, वह कश्मीर हमारा हो-गिरिराज सिंह Capture 14 462x330

जिस मकसद व सपनों के साथ राजनीति में आया था,वे पूरे हुए सपना था, ‘जहां हुए बलिदान मुखर्जी, वह कश्मीर हमारा हो-गिरिराज सिंह

केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह ने राजनीति से संन्यास लेने के संकेत दिए हैं। उन्होंने मंगलवार को यहां कहा कि उनकी राजनीतिक पारी अब समाप्त होने वाली

मुजफ्फरपुर: केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह ने राजनीति से संन्यास लेने के संकेत दिए हैं। उन्होंने मंगलवार को यहां कहा कि उनकी राजनीतिक पारी अब समाप्त होने वाली है। उन्होंने कहा कि वे राजनीति में जो करना चाहते थे, वह सब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरा कर दिया है।

अपने बयानों के कारण चर्चा में रहने वाले सिंह ने मुजफ्फरपुर में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी पारी मेरे राजनीतिक जीवन की भी अंतिम पारी है। मैं राजनीति में मंत्री-विधायक बनने नहीं, कुछ मकसद व सपनों के साथ आया था। सपना था, ‘जहां हुए बलिदान मुखर्जी, वह कश्मीर हमारा हो’।”

जिस  मकसद व सपनों के साथ राजनीति में आया था,वे पूरे हुए  सपना था, ‘जहां हुए बलिदान मुखर्जी, वह कश्मीर हमारा हो-गिरिराज सिंह Capture 15

भाजपा के ‘फायर ब्रांड’ नेता माने जाने वाले सिंह ने आगे कहा, “जम्मू एवं कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए हटाना मेरा मकसद था। नरेंद्र मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के आरंभ में ही अनुच्छेद 370 और 35ए को हटाकर इस मकसद को पूरा कर दिया है।” सिंह ने कहा, “जनसंख्या नियंत्रण के लिए भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से घोषणा कर दी है।” 

उन्होंने कहा, “नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में इन पांच वर्षों में हम सभी कार्यकर्ताओं की उम्मीदें पूरी हो जाएंगी। इसके बाद राजनीति करने का मेरा क्या उद्देश्य होगा?” उल्लेखनीय है कि सिंह की पहचान कट्टर हिंदू नेता के तौर पर होती है। सिंह बिहार में भी मंत्री का पद संभाल चुके हैं।

 

About Arun Kumar Singh

Check Also

नवरात्रि के चौथा दिन ! करें मां कुष्मांडा की पूजा, ये है मंत्र और महत्व              310x165

नवरात्रि के चौथा दिन ! करें मां कुष्मांडा की पूजा, ये है मंत्र और महत्व

नवरात्र का आज चौथा दिन है। देवीभागवत पुराण के अनुसार इस दिन देवी के चौथे …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.