Sunday , December 16 2018 [ 10:45 PM ]
Breaking News
Home / अंतरराष्ट्रीय / राजयनिक उत्पीड़न विवाद को बातचीत के जरिए सुलझाने पर सहमत हुए दोनों देश
[object object] राजयनिक उत्पीड़न विवाद को बातचीत के जरिए सुलझाने पर सहमत हुए दोनों देश flage

राजयनिक उत्पीड़न विवाद को बातचीत के जरिए सुलझाने पर सहमत हुए दोनों देश

विशेष संवाददाता, नई दिल्ली 
     भारत और पाकिस्तान राजनयिकों से जुड़े मुद्दे पर टकराव सुलझाने के लिए सहमत हो गए हैं। दोनों देशों ने पिछले दिनों एक-दूसरे के यहां अपने उच्चायोगों के अफसरों, स्टाफ और उनके परिजनों को सताए जाने का आरोप लगाया था। दोनों देश अब यह मान रहे हैं कि इस मसले को ज्यादा खींचना ठीक नहीं होगा।

[object object] राजयनिक उत्पीड़न विवाद को बातचीत के जरिए सुलझाने पर सहमत हुए दोनों देश flage
    विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को यहां बताया कि दोनों देशों के राजनयिकों से बर्ताव पर 1992 की एक आचार संहिता के तहत यह मुद्दा सुलझाने का काम किया जाएगा। इससे पहले पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने भारत में पाकिस्तानी राजनयिकों से बुरे बर्ताव की शिकायत की थी और चार-पांच घटनाओं का जिक्र करते हुए इस्लामाबाद में भारत के उप उच्चायुक्त को बुलाया था। भारत स्थित पाकिस्तान के उच्चायुक्त सोहैल महमूद को इस मसले पर चर्चा के लिए इस्लामाबाद बुलाया गया था। इसके बाद पाकिस्तानी मीडिया ने यह कहना शुरू कर दिया कि दोनों देशों के संबंध इतने खराब हो गए हैं कि पाकिस्तान ने अपने उच्चायुक्त को वापस बुला लिया है। 

यहां विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने तब इसे तवज्जो न देते हुए कहा कि कोई देश अपने राजदूत या उच्चायुक्त से संपर्क करे तो यह उसका अपना मामला है, यह किसी भी देश के लिए बेहद सामान्य बात है। भारत में कहा गया कि इस्लामाबाद में कई महीनों से हमारे उच्चायोग के अधिकारियों को सताया जा रहा है। उच्चायोग की वेबसाइट को भी बार-बार ब्लॉक किया जा रहा है। इससे पहले 2002-03 में भी इसी तरह के मुद्दे पर टकराव हुआ था। 

पाकिस्तान ने कुछ समय पहले भारत की महिला, बुजुर्ग और दिव्यांग कैदियों की रिहाई का ऐलान किया था, तब संबंधों में सुधार दिख रहा था। लेकिन राजनयिकों पर पाकिस्तान ने अपनी शिकायत को मीडिया में जाहिर किया तो खटास उभर आई। इस मुद्दे पर अनबन करीब 14 दिनों तक गंभीर स्थिति में रही, फिर फोन के जरिये मसला सुलझाने की कोशिश होने लगी। भारत पहले ही राजनयिक चैनलों के जरिये बातचीत कर रहा था। 

 

Both countries agreed to resolve treatment-of-diplomats of the political harassment dispute through talks

About Arun Kumar Singh

Check Also

राफेल मुद्दे पर जेटली ने जेपीसी गठन को किया खारिज, कहा- जारी है कांग्रेस का दुष्‍प्रचार              310x165

राफेल मुद्दे पर जेटली ने जेपीसी गठन को किया खारिज, कहा- जारी है कांग्रेस का दुष्‍प्रचार

नई दिल्ली: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने फ्रांस से राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद के सौदे की जांच …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.