Saturday , February 29 2020 [ 5:34 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / बिपिन रावत देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ नियुक्त, मुकुंद नरवाने आज संभालेंगे सेना प्रमुख का पद
बिपिन रावत देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ नियुक्त, मुकुंद नरवाने आज संभालेंगे सेना प्रमुख का पद Capture 381x330

बिपिन रावत देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ नियुक्त, मुकुंद नरवाने आज संभालेंगे सेना प्रमुख का पद

सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत को सोमवार को देश का पहला चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) नियुक्त किया गया। सीडीएस का काम सेना, नौसेना और वायुसेना के कामकाज में बेहतर तालमेल लाना होगा।

बिपिन रावत देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ नियुक्त, मुकुंद नरवाने आज संभालेंगे सेना प्रमुख का पद Capture

जनरल बिपिन रावत ( देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ )

नयी दिल्ली: सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत को सोमवार को देश का पहला चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) नियुक्त किया गया। सीडीएस का काम सेना, नौसेना और वायुसेना के कामकाज में बेहतर तालमेल लाना होगा। सरकारी आदेश के मुताबिक सीडीएस के पद पर जनरल रावत की नियुक्ति 31 दिसंबर से प्रभावी होगी। जनरल रावत ने 31 दिसंबर 2016 को सेना प्रमुख का पद संभाला था। वह मंगलवार को सेवानिवृत्त हो रहे थे। सेना प्रमुख बनने से पहले उन्होंने पाकिस्तान से लगी नियंत्रण रेखा, चीन से लगी वास्तविक नियंत्रण रेखा और पूर्वोत्तर में विभिन्न संचालनात्मक जिम्मेदारियां संभाल चुके थे। सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने पिछले मंगलवार को सीडीएस का पद बनाए जाने को मंजूरी दी थी जो तीनों सेनाओं से जुड़े सभी मामलों में रक्षा मंत्री के प्रधान सैन्य सलाहकार के तौर पर काम करेगा।


कुंद नरवाने मंगलवार को सेना प्रमुख का पद संभालेंग

बिपिन रावत देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ नियुक्त, मुकुंद नरवाने आज संभालेंगे सेना प्रमुख का पद Capture

सेनाध्यक्ष
लेफ्टिनेंट नरवाने

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवाने देश के नए थलसेना प्रमुख होंगे। वह मंगलवार को सेना प्रमुख का पदभार संभालेंगे। नरवाने जनरल बिपिन रावत का स्थान लेंगे जो तीन वर्ष तक सेना प्रमुख रहने के बाद सोमवार को देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) नियुक्त किये गये। लेफ्टिनेंट नरवाने फिलहाल सेना उप प्रमुख हैं। लेफ्टिनेंट नरवाने सितम्बर में सेना उप प्रमुख बनने से पहले सेना के ईस्टर्न कमान के प्रमुख थे, जो चीन के साथ लगती करीब चार हजार किलोमीटर लंबी सीमा की देखभाल करती है। अपने 37 वर्षों के सेवा काल में लेफ्टिनेंट जनरल नरवाने जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर में कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे। 

उन्होंने जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रीय राइफल्स बटालियन का कमान संभाला और पूर्वी मोर्चे पर इन्फैंटरी ब्रिगेड का नेतृत्व किया। वह श्रीलंका में भारतीय शांति रक्षक बल का हिस्सा थे और तीन वर्षों तक म्यामां स्थित भारतीय दूतावास में रक्षा अताशे रहे। लेफ्टिनेंट जनरल नरवाने राष्ट्रीय रक्षा अकादमी और भारतीय सैन्य अकादमी के छात्र रहे हैं। वह जून 1980 में सिख लाइट इन्फैंटरी रेजिमेंट के सातवें बटालियन में कमीशन प्राप्त हुए।

About Arun Kumar Singh

Check Also

संघर्ष करने वाले लोग हमेशा याद रखें गांधी जी का अहिंसा मंत्र-राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद Capture 3 310x165

संघर्ष करने वाले लोग हमेशा याद रखें गांधी जी का अहिंसा मंत्र-राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

राष्ट्रपति ने कहा, ‘राष्ट्र-निर्माण के लिए, महात्मा गांधी के विचार आज भी पूरी तरह से …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.