Sunday , December 16 2018 [ 9:45 PM ]
Breaking News
Home / अन्य / 2019 से पहले मोदी सरकार का मास्टर स्ट्रोक ..
[object object] 2019 से पहले मोदी सरकार का मास्टर स्ट्रोक ..        646x330

2019 से पहले मोदी सरकार का मास्टर स्ट्रोक ..

 कांशीराम-आडवाणी और प्रणब मुखर्जी को मिल सकता है भारत रत्न

 
    नई दिल्ली: किसी भारतीय को दिए जाने वाले सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ की घोषणा इस साल होगी तो कुछ दिलचस्प नाम भी सामने आ सकते हैं। इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब भारत रत्न के लिए 4 नामों की घोषणा की जाएगी। इसके पहले साल 1954 में तीन शख्सियतों को भारत रत्न के सम्मान से नवाजा गया था।

[object object] 2019 से पहले मोदी सरकार का मास्टर स्ट्रोक .. TRIMURTI 300x221

इस साल 4 लोगों को दिया जा सकता है भारत रत्न

सूत्रों के अनुसार, सरकार पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न से सम्मानित कर सकती है। जबकि कद्दावर दलित नेता कांशीराम के साथ-साथ पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भी सरकार भारत रत्न से सम्मानित किया जा सकता है। इसके अलावा एक नाम        दक्षिण भारत से भी है।

   वैसे तो भारत रत्न पाने वालो में तिब्बती धर्म गुरु दलाई लामा का भी नाम जोर शोर से चल रहा है लेकिन कुछ राष्ट्रवादी संगठन उनपर लगे सीआइए एजेंट के आरोप के कारण विरोध भी कर रहे है 

राजनीतिक लाभ भी लेना चाहेगी बीजेपी

     कांशीराम को भारत रत्न देने की मांग काफी लंबे समय से की जा रही है। कांशीराम को भारत रत्न उनके द्वारा दलित समुदाय के उत्थान के लिए किए गए प्रयासों को देखते हुए दिया जा सकता है। कई दलित संगठन इस मांग को लगातार उठाते भी रहे हैं। जबकि पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी और पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को देश की राजनीति में उनके योगदान के लिए ये सम्मान दिया जा सकता है।

      वहीं, कांशीराम को भारत रत्न से सम्मानित करने के बाद बीजेपी इसका राजनीतिक लाभ लेना भी चाहेगी क्योंकि हाल के दिनों की कई घटनाओं के बाद भाजपा पर दलित विरोधी होने का आरोप भी लगा है, जिसके कारण पार्टी की काफी आलोचना भी हुई है। इसी प्रकार प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न से सम्मानित करने के बाद पश्चिम बंगाल में बीजेपी को इसका फायदा मिल सकता है।

 

 

 

 

भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है भारत रत्न

भारत रत्न किसी भी भारतीय नागरिक को उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए दिया जाता है। शुरू में ये सम्मान कला, साहित्य, विज्ञान और पब्लिक सर्विस क्षेत्र से जुड़ी बड़ी हस्तियों को ही दिया जाता था। लेकिन इसके बाद सरकार ने 2011 में इसमें मानवीय प्रयासों को भी शामिल किया। भारत रत्न के लिए नामों की अनुशंसा देश के प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्रपति के समक्ष की जाती है। हर साल अधिकतम 3 नाम भारत रत्न के लिए भेजे जाते हैं लेकिन इस साल पहली बार 4 नामों की चर्चाएं जोरों पर हैं।

 

About Arun Kumar Singh

Check Also

न्यायपालिका की प्रतिष्ठा बर्बाद करने में कांग्रेस हर हद पार कर जाती है-पीएम मोदी              285x165

न्यायपालिका की प्रतिष्ठा बर्बाद करने में कांग्रेस हर हद पार कर जाती है-पीएम मोदी

     प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “आज देश में दो गुट हैं। एक सरकार का, …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.