Wednesday , April 24 2019 [ 5:43 AM ]
Breaking News
Home / अन्य / बच्चों को पीटने पर हो सकती है उम्रकैद तक की सजा
बच्चों को पीटने पर हो सकती है उम्रकैद तक की सजा

बच्चों को पीटने पर हो सकती है उम्रकैद तक की सजा

बच्चों को पीटने पर हो सकती है उम्रकैद तक की सजा


अकसर बच्चों को बेरहमी से पीटने की खबरें आती रहती हैं, जिसके वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल होते रहते हैं। स्कूलों के साथ-साथ घर पर भी कई बार परिजन बच्चों को गुस्से में बुरी तरह पीटते हैं, जिससे वो अस्पताल तक पहुंच जाते हैं।

शिक्षा के अधिकार के तहत टीचर बच्चे को डरा-धमका या पीट नहीं सकते, ऐसा करने पर उनके खिलाफ केस दर्ज हो सकता है और उनकी नौकरी भी जा सकती है। वहीं इसके साथ-साथ अगर बच्चे के माता-पिता उसे पीटते हैं तो उनके खिलाफ भी केस दर्ज हो सकता है। आइए आपको बताते हैं कि बच्चों को पीटने के क्या-क्या साइडइफेक्ट हो सकते हैं।
अगर पेरेंट्स बच्चे को पीटते हैं तो उनके खिलाफ जेजे (जूवनाइल जस्टिस) एक्ट के तहत पुलिस से शिकायत की जा सकती है। बच्चे को चोट पहुंचती है तो आईपीसी के तहत भी केस दर्ज हो सकता है। जेजे ऐक्ट के तहत दोषी पाए जाने पर 6 महीने तक की सजा ही सकती है।

पैरेंट्स अगर बच्चे को पीटते हैं और उसे चोट लगती है तो उनके खिलाफ धारा 323 के तहत केस दर्ज हो सकता है। इसमें आरोपी की गिरफ्तारी नहीं होगी और बच्चे को कोर्ट में खुद ही अपना केस लड़ना होगा और जुर्म साबित होने पर परिजनों को जुर्माना या एक साल की कैद हो सकती है। लेकिन बच्चे को नुकीले हथियार से मारने पर धारा 324 लगती है, जिसमें 3 साल तक की सजा का प्रावधान है।
जानलेवा चोट पहुंचाने पर 326 के तहत मुकदमा दर्ज होगा, जिसमें 10 साल तक या उम्रकैद तक सजा हो सकती है। मारपीट के दौरान अगर बच्चे के सिर पर चोट लगी तो धारा 308 के तहत गैर-इरादतन हत्या की कोशिश का का केस बनेगा, जिसके तहत 3 से 7 साल तक कैद हो सकती है।

About Arun Kumar Singh

Check Also

लोकतंत्र के महापर्व यानि लोकसभा चुनाव 2019: दूसरे फेज की वोटिंग में करीब 66 फीसदी वोट पड़े Capture 14 298x165

लोकतंत्र के महापर्व यानि लोकसभा चुनाव 2019: दूसरे फेज की वोटिंग में करीब 66 फीसदी वोट पड़े

लोकतंत्र के महापर्व यानि लोकसभा चुनाव के लिए 18 अप्रैल को दूसरे चरण का मतदान …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.