Tuesday , July 16 2019 [ 11:34 AM ]
Breaking News
Home / अन्य / करीब दस घंटे की जोरदार बहस के बाद सवर्ण आरक्षण बिल राज्यसभा से भी पारित,पक्ष में पड़े 165 मत
करीब दस घंटे की जोरदार बहस के बाद सवर्ण आरक्षण बिल राज्यसभा से भी पारित,पक्ष में पड़े 165 मत

करीब दस घंटे की जोरदार बहस के बाद सवर्ण आरक्षण बिल राज्यसभा से भी पारित,पक्ष में पड़े 165 मत

लोकसभा में 3 के मुकाबले 323 मतों से कोटा बिल पारित होने के बाद राज्यसभा ने इस बिल पर मुहर लगा दी है। राज्यसभा ने 17 के मुकाबले 165 मतों से इस बिल को पारित कर दिया। 

करीब दस घंटे की जोरदार बहस के बाद सवर्ण आरक्षण बिल राज्यसभा से भी पारित,पक्ष में पड़े 165 मत

जनरल कोटा बिल लोकसभा के बाद राज्यसभा से भी पारित

  नई दिल्ली,अरुण कुमार सिंह : लोकसभा में 3 के मुकाबले 323 मतों से कोटा बिल पारित होने के बाद राज्यसभा ने इस बिल पर मुहर लगा दी है। राज्यसभा ने 17 के मुकाबले 165 मतों से इस बिल को पारित कर दिया। आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को सरकारी नौकरियों एवं शिक्षण संस्थाओं में 10 फीसदी आरक्षण देने के प्रावधान वाले संविधान संशोधन विधेयक पर राज्सभा में जोरदार बहस हुई थी। सत्ता पक्ष और विपक्ष अकाट्य तर्कों के जरिए अपनी बात सदन के सामने रखा था। यह विधेयक लोकसभा में मंगलवार को पारित हुआ था । लोकसभा में इस विधेयक के पक्ष में 323 वोट और विरोध में मात्र तीन वोट पड़े। 

करीब दस घंटे की जोरदार बहस के बाद सवर्ण आरक्षण बिल राज्यसभा से भी पारित,पक्ष में पड़े 165 मत
राज्य सभा

बता दें कि राज्यसभा में संख्या बल एनडीए सरकार के पक्ष में नहीं है। बहस की शुरुआत में ऐसा लगा कि कांग्रेस इस बिल का विरोध करेगी। लेकिन कुछ समय के बाद कांग्रेस ने कहा कि वो इस विधेयक के विरोध में नहीं है। लेकिन सरकार की नीयत सही नहीं है। इसके साथ ही समाजवादी पार्टी ने भी तमाम आपत्तियों के बाद बिल पर समर्थन का ऐलान किया है। 

बता दें कि संविधान संशोधन के लिए सदन के आधे से ज्यादा सदस्यों की उपस्थिति अनिवार्य होती है। इसके अलावा विधेयक को दो तिहाई समर्थन से पास होना जरूरी होता है। राज्यसभा में सदस्यों की संख्या 245 है। ऐसे में सदन में कम से कम 123 सदस्यों की मौजूदगी अनिवार्य होगी। राज्यसभा में भाजपा की संख्या 73 और और एनडीए की संख्या 89 के करीब है।

कोटा बिल को राज्यसभा ने 17 के मुकाबले 165 मतों से पारित कर दिया। अब इस बिल को राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

About Arun Kumar Singh

Check Also

छह प्रधानमंत्रियों के साथ काम कर चुके एक मंझे हुए राजनेता हैं रामविलास पासवान Capture 21 310x165

छह प्रधानमंत्रियों के साथ काम कर चुके एक मंझे हुए राजनेता हैं रामविलास पासवान

रामविलास पासवान के राजनीतिक सफर की शुरुआत 1960 के दशक में बिहार विधानसभा के सदस्य …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.